अपनी तालीम को भूल दुनिया की आलोचनाओ का शिकार हुए पाक PM इमरान खान

Bishkek_SCO

इस समय किर्गिस्तान के बिस्केक पर पूरी दुनिया की नज़रें टिकी हुई है जहाँ शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइज़ेशन सम्मेलन का आयोजन हुआ था| इस सम्मलेन में हिस्सा लेने के लिए अनेक देशों के राष्ट्राध्यक्ष पहुंचे हुए थे| बीती रात किर्गिस्तान के राष्ट्रपति ने दुनिया भर से किर्गिस्तान पहुंचे महामहिमों के सम्मान में डिनर का आयोजन किया था| पर मुद्दे की बात डिनर का आयोजन नहीं, इस आयोजन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री द्वारा की गयी एक ऐसी हरकत है, जिसके वजह से वे सबके हंसी का पात्र बन गए है|

क्या है पूरा वाकया?

Imran Khan

डिनर का आयोजन हॉल में किया गया था जहाँ एक-एक करके सारे महामहिमों की एंट्री हुई और तालियाँ बजा कर उनका स्वागत किया गया| इस हॉल में इमरान खान और पीएम नरेन्द्र मोदी की एंट्री करीब-करीब एक साथ हुई। पीएम मोदी को बीचों बीच कुर्सी मिली जबकि इमरान खान को सबसे किनारे बिठाया गया।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान हॉल में आने के साथ ही अपनी कुर्सी पर बैठ गए वहीँ दूसरी तरफ PM मोदी और दुसरे नेताओं ने सभी मेहमानों के आने का इंतज़ार किया| हॉल में मौजूद नेता जहाँ अन्य नेताओं के स्वागत में खड़े होकर तालियाँ बजाते हुए नज़र आये वही इमरान खान अपने पैर पर पैर चढ़ा कर अपनी कुर्सी पर बैठे ही रहे| ऐसा लग रहा था मानो इमरान खान अपनी तालीम और शिष्टाचार भूल चुके हैं|

इमरान खान के इस हरकत से साफ़ ज़ाहिर हो रहा है की वो अपने व्यवहार को लेकर कितने कन्फ्यूज्ड है| जैसे ही उन्हें कोने वाली जगह मिली वो समझ ही नहीं पाए की अब उन्हें क्या करना है| एक बार के लिए तो वे खड़े भी हुए और अभिवादन भी किया, पर न तो किसी ने उनका जवाब दिया और न ही उनकी तरफ देखा| निराश होकर इमरान खान अपनी जगह पर बैठे रह गए|

पाक मीडिया भी नहीं चुकती अपने PM का मजाक उड़ाने से

अगर बात इमरान खान की आलोचना की हो ही रही है तो आपको इस बात से भी अवगत करवा दें कि उनका मजाक सिर्फ अन्य देशों में ही नहीं बल्कि उनके अपने पाकिस्तान में भी बनाया जाता है| आये दिन पाकिस्तानी मीडिया अपने चैनल की TRP बढ़ाने के लिए अपने ही प्रधानमंत्री का मजाक बनाती है| तभी तो कल यानि 13 जून 2019 को प्रधानमंत्री इमरान खान की कैबिनेट ने फरमान जारी करते हुए पाकिस्तानी मीडिया को प्रधानमंत्री पर किसी भी प्रकार की टिप्पणी करने पर रोक लगा दी है|

बीते रात किर्गिस्तान के बिस्केक में आयोजित डिनर में जिस तरह से इमरान खान को नज़रंदाज़ किया गया उससे ये साफ़ ज़ाहिर हो रहा है कि इमरान खान का बहिष्कार पूरी दुनिया कर रही है, और इसकी सबसे बड़ी वजह है पाकिस्तान का आतंकवाद से रिश्ता| जब तक की पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ कदम नहीं उठाता, PM मोदी ने तो इमरान खान से बात करने से भी इनकार किया है| इमरान खान ने अपनी हरकतों से PM मोदी को सही साबित कर दिया उनसे बात न करके उन्होंने बिलकुल सही फैसला किया है|

किसी भी देश के राष्ट्राध्यक्ष अगर किसी भी सम्मलेन में हिस्सा लेते हैं तो वो वहां अपने देश और देश के लोगों का प्रतिनिधित्व करते है| अपनी इस हरकत से इमरान खान ने न सिर्फ अपना बल्कि पुरे 30 करोड़ पाकिस्तानियों का भी सर नीचा किया है|