आईएमएफ का अनुमान भारतीय इकॉनामी विश्व में रहेगी सबसे आगे

कोविड से हुए नुकसान के बाद भारत की हालात तेजी से सुधर रहे हैं। आने वाले दिनों में भारत के लिए खुशखबरी है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष यानी आईएमएफ(IMF) ने 2022 में भारत की अर्थव्यवस्था को दुनिया में सबसे तेजी से आगे बढ़ने का अनुमान जताया है। आईएमएफ द्वारा मंगलवार को जारी ताजा अनुमानों के अनुसार, भारतीय अर्थव्यवस्था के वर्ष 2021 में 9.5 प्रतिशत और 2022 में 8.5 प्रतिशत की दर से बढ़ने की उम्मीद है। जबकि विश्व के दूसरे देशों की बात करे तो वो भारत से काफी पीछे रहने वाले है।

भारत के वृद्धि अनुमानों को पिछले अनुमान पर स्थिर रखा गया

भारतीय अर्थव्यवस्था में वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान 7.3 प्रतिशत की गिरावट आई थी। आईएमएफ के ताजा विश्व आर्थिक परिदृश्य  में भारत के वृद्धि अनुमानों को इस साल जुलाई में जारी पिछले अनुमान पर स्थिर रखा गया है। ईएमएफ और विश्व बैंक की वार्षिक बैठक से पहले जारी ताजा डब्ल्यूईओ के अनुसार 2021 में पूरी दुनिया की वृद्धि दर 5.9 प्रतिशत और 2022 में 4.9 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया है। वहीं अमेरिका की अर्थव्यवस्था के इस साल छह फीसदी और अगले साल 5.2 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान है। चीन की अर्थव्यवस्था 2021 में आठ प्रतिशत और 2022 में 5.6 प्रतिशत की दर से बढ़ सकती है। जबकि 2022 में अमेरिका में यह दर 5.2 फीसद हो सकती है। खास बात यह है कि भारत और स्पेन को छोड़कर किसी भी अन्य देश किसी भी अन्य देश में यह वृद्धि दर 6 फीसदी से ऊपर नहीं जाने का अनुमान जताया गया है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि भारत अपने लोगों का कोविड टीकाकरण करने के मामले में अच्छा कर रहा है। यह निश्चित रूप से उसकी अर्थव्यवस्था के लिए मददगार साबित होगा।

कोविड की दूसरी लहर के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था में फिर आर्इ तेजी

आईएमएफ की माने तो जुलाई के पूर्वानुमान की तुलना में 2021 के लिए वैश्विक वृद्धि अनुमान को मामूली रूप से संशोधित कर 5.9 प्रतिशत कर दिया गया है। 2022 के लिए यह 4.9 प्रतिशत पर यथावत है। आईएफएफ की रिपोर्ट ने ये साफ कर दिया कि पिछले 7 सालों से जिस तरह की आर्थिक नीति अपनाई जा रही है उससे भारत की स्पीड तेजी से बढ़ी है जबकि कोरोना के चलते भारत को दो बार लॉकडाउन का दंश भी झेलना पड़ा है। इस दौरान करोड़ों को मुफ्त अनाज भी देना पड़ा है लेकिन इसके बाद तेजी के साथ अब भारतीय कारोबार ने रफ्तर पकड़ ली है जो ये बता रही है कि भारत आने वाले दिनो में आत्मनिर्भर बनकर रहेगा।

आर्थिक सेक्टर से जुड़े सभी संगठनो से भारत के लिए पॉजिटिव खबर ही सामने आ रही है जो ये बता रही है कि भारत सही दिशा से अपने 5 ट्रिलियन संकल्प के लक्ष्य को पाने की ओर बढ़ रहा है।

 

Leave a Reply