अगर आपने लोन ले रखा है तो मोदी सरकार ने आपको फिर से दी है बड़ी राहत

अगर आपने कोरोना काल में लोन मोरेटोरियम की सुविधा का लाभ लिया है तो आपके लिए एक अच्छी खबर है। मोदी सरकार ने ऐसे लोगों को बड़ी राहत देने का ऐलान किया है। मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर कहा है कि एमएसएमई, एजुकेशन, होम, कंज्यूमर, ऑटो लोन पर लागू चक्रवृद्धि ब्याज यानी ब्याज पर ब्याज को माफ किया करेंगे।

अब आम आदमी पर ये होगा असर

मार्च में कोरोना संकट की वजह से लॉकडाउन लागू किया गया था। इस वजह से काम-धंधे बंद थे और बहुत से लोग ईएमआई नहीं चुकाने की स्थिति में थे। इसे देखते हुए आरबीआई के आदेश पर बैंकों से ईएमआई नहीं चुकाने के लिए 6 महीने की मोहलत मिल गई, लेकिन सबसे बड़ी समस्या मोरेटोरियम के बदले लगने वाले अतिरिक्त चार्ज को लेकर थी। अब इस राहत से लोन मोरेटोरियम का लाभ ले रहे लोगों को ब्याज पर अतिरिक्त पैसे नहीं देने होंगे। ऐसे ग्राहक सिर्फ लोन का सामान्य ब्याज देंगे। इस कदम से सरकार 7 हजार करोड़ की रकम का बोझ पड़ेगा। लेकिन जनता की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए ये कदम का ऐलान सरकार ने किया है। बता दें पूर्व सीएजी राजीव महर्षि की अगुवाई वाली एक्सपर्ट कमेटी की सिफारिशों के बाद केंद्र ने इस मुद्दे पर अपना रुख बदला है। पहले केंद्र और आरबीआई ब्याज पर ब्याज माफ करने के खिलाफ थे। सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दिए हलफनामे में कहा है कि सरकार ने छोटे कर्जदारों की मदद करने की परंपरा को बनाए रखने का फैसला किया है। कोरोना वायरस महामारी की स्थिति में, ब्याज की छूट का भार वहन सरकार करे यहीं सिर्फ समाधान है। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने कहा है कि उपयुक्त अनुदान के लिए संसद से अनुमति मांगी जाएगी।

दूसरी योजनाओं के जरिये पहुंचाई गई मदद

कोरोना संकट के चलते सरकार ने देश में लॉकडाउन लगाने का बड़ा कदम उठाया था लेकिन इस कदम से करोड़ों भारतीयों के रोजी रोजगार पर बड़ा असर पड़ा था जिससे उबारने के लिये सरकार ने जरूरतमंदों के खाते में सीधा पैसा जमा किया था जिससे उनका जीवन ठीक ढ़ंग से चलता रहे। सरकारी ऑकड़ो पर नजर डाले तो सरकार ने कोरोना काल में 2.33 लाख करोड़ रूपये सीधे लोगों के खातो में डाले थे। खासकर महिलाओं के जनधन खाते में इसकी रकम डाली गई थी। इसी तरह गरीब लोगों को मुफ्त में गैस उज्जवला योजना के तहत फ्री में गैस पहुंचाई गई थी। तो करोबारियों को कई तरह के आर्थिक पैकेज से सहायता दी गई। देश में पहली बार किसी आपदा के वक्त सरकार ने इतनी बड़ी मदद लोगो तक पहुंचाई थी। वरना खुद आप जानते है कि पहले के दौर में सरकारी योजनाओ का क्या हाल जमीन पर होता था। खुद जनता इस बार सरकार के कदम की तारीफ भी कर रही है।

विपदा के वक्त सरकार की यही योजनाओं ने जान और जहान दोनो को बचाया जिसकी तारीफ पूरी दुनिया आज कर रही है। सरकार के इन कदम का ही असर है कि आज भारत की आर्थिक व्यवस्था फिर से खड़ी हो रही है वो भी आत्मनिर्भर बन कर।