गांवों में न होते इंटरनेट यूजर्स तो क्या हम कोरोना से जंग लड़ पाते ?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

साल था 2014 जब पहली बार पीएम मोदी ने देश की सत्ता की बागडोर अपने हाथ में ली, तब से वो 24*7 भारत को नया भारत बनाने में जुटे हैं। इसके लिए न वो थकते हैं और न ही रुकते हैं, बस दिन रात काम करते रहते हैं। ऐसे में मोदी जी का एक सपना तो सच हो गया है,वो है गांवों तक इंटरनेट पहुंचाने का सपना।

गांवों में शहरों से ज्यादा इंटरनेट यूजर्स

सुनकर आप को यकीन नही हो रहा होगा लेकिन ये सच है आज नये भारत में शहर से ज्यादा इंटरनेट यूजर्स गांवों में हैं। आंकड़ों पर नजर डालें तो इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले 20.50 करोड़ शहरी यूजर्स है, तो ग्रामीण इंटरनेट यूजर्स की संख्या 22.70 करोड़ है। ऐसे में शहरी यूजर्स की तुलना में ग्रामीण इंटरनेट यूजर्स का आंकड़ा ज्यादा है।ये ऑकड़े 2019 अंत में जारी किये गये थे। वैसे अभी के दौर में भारत में 5 साल से अधिक उम्र के एक्टिव इंटरनेट उपयोगकर्ता की संख्या 50.70 करोड़ है, जो चीन के बाद दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी संख्या है। जिसका कारण मोदी सरकार है जिसने पिछले महज 6 सालों में देश के अधिकतर गांवों तक इंटरनेट से जुड़ने के लिए ऑपटिकल फाइवर डलवाये। ऑकड़ो पर नजर डालें तो करीब 3 लाख किलोमीटर से अधिक इलाकों में ये तारे डलवाई गई जिससे गांव-गांव इंनटरनेट से जुड़ सके। तभी आज कश्मीर से कन्याकुमारी तक के गांवों में इनटनेंट की सुविधा मौजूद हो पाई है। वही इसका सही प्रयोग गांव में रहने वाली जनता कैसे करें इसका भी ध्यान सरकार ने रखा है। भीम एप हो या फिर ईनाम योजना या फिर जनधन योजना सभी को मोबाइल से जोड़ा गया है। जिससे ज्यादातर गांव के लोग आज यूज कर रहे हैं जिससे नेट की खपत भी गांव में बढ़ी है।

कोरोना से गांव में जंग को की आसान

शायद यही वजह है कि आज कोरोना काल में हम गांव तक लोगों को सीधी मदद पहुंचा पा रहे हैं। अगर गांव-गांव तक नेट नहीं होता तो आज इस कठिन दौर में क्या हम गरीबों को घर-घर पैसा पहुंचा पाते, क्या हम उन महिलाओं को गैस का सिलेंडर फ्री में पहुंचा पाते या किसान की फसल का सही दाम उनतक पहुंच पाता, सबका जवाब सिर्फ इतना ही होगा नहीं, लेकिन ऐसा हुआ तो सिर्फ पीएम मोदी की दूर तक सोचने वाली सोच के चलते। तभी तो गांव-गांव तक कोरोना संक्रमण  देश में बहुत कम है। और इसीलिये तो पीएम मोदी की तारीफ समूचे विश्व में हो रही है।

बहरहाल जिस काम को लोग करने से डरते हैं उसी काम को पीएम मोदी करने की कसम खाते हैं और पूरा करके ही दम लेते हैं। इसीलिये तो हमे अपने पीएम पर अभिमान है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •