‘पति जबरन CAA के खिलाफ धरने पर भेजता है’, पत्नी ने खोली पोल, वीडियो वायरल

  • महिला का आरोप-जबरन धरने पर भेजता है पति
  • अलीगढ़ में झगड़ा सुलझाने पहुंची पुलिस
  • अलगीढ़ में CAA के खिलाफ प्रदर्शन में ट्विस्ट

अलीगढ़ में एक महिला ने आरोप लगाया है कि उसका पति उसे जबरन CAA के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन में शामिल होने के लिए भेजता है. अलीगढ़ में पुलिस लोगों को समझा रही है कि वे अनावश्यक रूप से CAA के खिलाफ धरने में शामिल न हों. इस दौरान जब पुलिस अलीगढ़ में एक घर में पहुंची तो महिला अपने पति पर बरस पड़ी.

एक हफ्ते से जान खा रहे हैं- धरने में जाओ

महिला ने कहा कि एक सप्ताह से उसका पति CAA के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन में शामिल होने के लिए जबरन भेजता था. महिला ने कहा कि वो झूठ नहीं बोल रही है. पुलिस के सामने महिला ने कहा, “रोज जान खाते हैं, कहते हैं वहां धरने लग रहे हैं …चली जाओ…मैं झूठ नहीं बोल रही हूं…इन्होंने एक हफ्ते से मेरी जान खा रखी है.” हालांकि महिला के पति बीच में कह रहे हैं कि उनकी पत्नी झूठ बोल रही है. पुलिस ने इस बावत महिला के पति को कहा कि वे अपनी पत्नी पर दबाव न बनाएं.

बता दें कि अलीगढ़ में सीएए और एनआरसी के विरोध में जीवनगढ़ बाईपास के पास चल रहे धरने को प्रशासन ने दो दिन पहले हटा दिया था. प्रशासन को जानकारी मिली कि सिविल लाइन्स और क्वार्सी थाना क्षेत्र में कुछ लोग महिलाओं पुरुषों को अनूप शहर चुंगी पर धरने के लिए उकसा रहे हैं.


घर घर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट और सीओ

इसको लेकर पुलिस प्रशासन ने नई पहल शुरू की है. सोमवार को अपर सिटी मजिस्ट्रेट रंजीत सिंह औक सीओ अनिल समानिया के नेतृत्व में पुलिस और प्रशासन की टीम ने क्वारसी थाना क्षेत्र और सिविल लाइन थाना क्षेत्र के मोहल्लों में जाकर महिलाओं पुरुषों से अपील की कि वे बिना जरूरी धरना प्रदर्शन में ना जाएं. लोगों को समझाने के लिए खुद सिटी मजिस्ट्रेट दरवाजे दरवाजे पर लोगों के बीच पहुंचे.

शांति भंग करने पर भेजा जाएगा नोटिस

पुलिस ने कहा कि अगर कोई जबरन किसी को धरने पर भेजता है तो उसे नोटिस दी जाएगी. अलीगढ़ के अपर सिटी मजिस्ट्रेट रंजीत सिंह ने बताया कि चुंगी गेट पर जो लोग धरने में जाते थे उसमें से कई महिलाओं के बारे में जानकारी मिली कि कुछ लोग इन्हें उकसा रहे हैं.

रंजीत सिंह ने कहा कि उन्होंने सभी लोगों को समझाया कि अनावश्यक रूप से शांति भंग ना करें. उन्होंने कहा कि शांति भंग करने वाले को नोटिस दिया जाएगा.

Originally published at AajTak