सैमसंग की फैक्ट्री भारत और वियतनाम शिफ्ट होने के बाद चीन का हुइजू शहर ‘घोस्ट टाउन’ में हुआ तब्दील

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

China_Hangzhou

चीन और अमेरिका के बीच चल रहे व्यापार युद्ध से चीन को बहुत नुकसान हो रहा है और इसका असर अब चीन के हुइज़ू शहर में दिखने लगा है। चीन के पर्ल नदी डेल्टा के उत्तर में हुइज़ू शहर, सैमसंग द्वारा अपने तीन दशक पुराने कारखाने को बंद करने और अक्टूबर में भारत और वियतनाम में इसका परिचालन स्थानांतरित करने के बाद, चीन का यह हुइज़ू शहर ‘भूत शहर’ में तब्दील हो गया है।

सैमसंग का हुइज़ू शहर में दुनिया का अग्रणी विनिर्माण उद्यम था। इसके हुइज़ू कारखाने ने पिछले 20 वर्षों में ग्वांगडोंग और आस-पास के प्रांतों में आपूर्ति श्रृंखलाओं का एक पूरा पारिस्थितिकी तंत्र बनाया था, जो अब कंपनी के जाने से धीरे-धीरे खतम हो रहा है। हुइज़ू शहर में सैमसंग कारखाने के आस-पास के शॉप, रेस्टोरेंट और सभी छोटे-छोटे दुकान बंद हो रहे है।

सैमसंग फैक्ट्री द्वारा छोड़े गए विशाल स्थान के बाद और कोई नया निर्माता नहीं होने से, कम से कम 60 प्रतिशत आस-पास के व्यवसाय पहले ही बंद हो चुके हैं। और अगर स्थिति नहीं बदलती है तो आने वाले हफ्तों में और अधिक पलायन करने के लिए तैयार है।

बता दे कि दक्षिण कोरियाई इलेक्ट्रॉनिक्स दिग्गज सैमसंग ने स्थानीय सरकार के साथ एक संयुक्त उद्यम अनुबंध पर हस्ताक्षर करने के बाद, अगस्त 1992 में हुइज़ू कारखाने का जीवन शुरू किया था।

चीन और अमेरिका के बीच चल रहे व्यापार युद्ध से चीन को नुकसान से बचाने के लिए, दोनों देशों ने व्यापार युद्ध को समाप्त करने के लिए कई दौर की वार्ता की, लेकिन दोनों देशों के बीच संघर्ष, चीनी विनिर्माण उद्योग के लिए तबाही का निशान छोड़ गया, जो पिछले कुछ वर्षों में आर्थिक मंदी और निर्यात में लगातार गिरावट से बुरी तरह प्रभावित हुआ।

Noida_Samsung | PC - Google

चीन-अमेरिका व्यापार युद्ध (China America Trade War) के बीच सैमसंग ने अपने इस कारखाने को भारत (India) के नोएडा शहर और वियतनाम (Vietnam) में ट्रांसफर कर दिया गया है। पिछले साल सैमसंग ने नोएडा में अपनी दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री का उद्घाटन किया था। हांगकांग के साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, सैमसंग ने जब से चीन में मौजूद अपना अंतिम कारखाना बंद किया, दौड़ता-भागता हुइजू ठहर गया और भूतिया शहर में तब्दील हो गया। रिपोर्ट के मुताबिक, सैमसंग ने दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं चीन-अमेरिका के बीच ट्रेड वार की परिस्थितियों को भांपा और बड़े पैमाने पर भारत व वियतनाम में उत्पादन को स्थानांतरित कर दिया।

पिछले साल सैमसंग ने भारतीय राजधानी के पास नोएडा में अपने दुनिया के सबसे बड़े मोबाइल कारखाने का उद्घाटन किया। नोएडा की नई सुविधा सम्पन्न मोबाइल कारखाने से सैमसंग को मोबाइल फोन के लिए अपनी क्षमता को दोगुना करने में सक्षम करेगी, जो 2020 तक 68 मिलियन यूनिट प्रति वर्ष से 120 मिलियन यूनिट तक हो जाएगा, ये चरण-वार विस्तार में 2020 तक पूरा किया जाएगा।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •