दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को आखिर कब तक करना होगा इंतजार  

करीब 22 मिनट लंबे अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिए भारत की दावेदारी को पुरजोर तरीके से उठाया। उन्होंने आतंकवाद को समूची मानवता का दुश्मन करार दिया। पीएम मोदी ने अपने भाषण में लोककल्याणकारी योजनाओं का जिक्र करते हुए न्यू इंडिया की बुलंद तस्वीर पेश की।

आज से बहुत अलग थी 1945 की दुनिया’

1945 की दुनिया निश्चित तौर पर आज से बहुत अलग थी। पूरा वैश्विक माहौल- साधन, संसाधन, समस्याएं, समाधान सब कुछ भिन्न थे। ऐसे में विश्व कल्याण की भावना के साथ जिस संस्था का गठन हुआ, जिस स्वरूप में गठन हुआ, वो भी उस समय के हिसाब से था। आज हम एक बिल्कुल अलग दौर में हैं। इक्कीसवीं सदी में हमारे वर्तमान की, हमारे भविष्य की आवश्यकताएं और चुनौतियां अब कुछ और हैं। इसलिए आज पूरे विश्व समुदाय के सामने एक बहुत बड़ा सवाल है कि जिस संस्था का गठन तब की परिस्थितियों में हुआ था, उसका स्वरूप क्या आज भी प्रासंगिक है। सदी बदल जाए पर हम न बदलें तो बदलाव लाने की ताकत भी कमजोर होती है। अगर हम बीते 75 वर्षों में संयुक्त राष्ट्र की उपलब्धियों का मूल्यांकन करें तो कई उपलब्धियां दिखाई पड़ेंगीं। लेकिन इसके साथ ही अनेक ऐसे उदाहरण भी हैं जो संयुक्त राष्ट्र के सामने गंभीर आत्ममंथन की आवश्यकता खड़ी करते हैं

आखिर कब तक भारत को UN के डिसिजन मेकिंग स्ट्रक्चर से अलग रखा जाएगा?’

लेकिन ये भी उतनी ही बड़ी सच्चाई है कि भारत के लोग संयुक्त राष्ट्र के रिफॉर्म्स को लेकर जो प्रोसेस चल रहा है उसके पूरा होने का बहुत लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं। आज भारत के लोग चिंतित हैं कि क्या ये प्रोसेस कभी एक लॉजिकल एंड पर पहुंच पाएगा। आखिर कब तक भारत को संयुक्त राष्ट्र के डिसिजन मेकिंग स्ट्रक्चर से अलग रखा जाएगा? एक ऐसा देश जो दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, एक ऐसा देश जहां विश्व की 18 प्रतिशत से ज्यादा जनसंख्या रहती है, एक ऐसा देश जहां सैकड़ों भाषाएं हैं, सैकड़ों बोलियां हैं, अनेकों पंथ हैं, अनेकों विचारधाराएं हैं। जिस देश ने सैकड़ों वर्षों तक वैश्विक अर्थव्यवस्था का नेतृत्व करने और सैकड़ों वर्षों तक गुलामी दोनों को झेला है।

जब हम मजबूत थे तो दुनिया को कभी सताया नहीं, मजबूर थे तो कभी नहीं बने बोझ’

जब हम मजबूत थे तो दुनिया को कभी सताया नहीं। जब हम मजबूर थे तो दुनिया पर कभी बोझ नहीं बने। जिस देश में हो रहे परिवर्तनों का प्रभाव दुनिया के बहुत बड़े हिस्से पर पड़ता है, उस देश को आखिर कब तक इंतजार करना पड़ेगा।

UN में अपनी व्यापक भूमिका की तरफ देख रहे हैं भारतवासी’

संयुक्त राष्ट्र जिन आदर्शों के साथ स्थापित हुआ था उससे भारत की मूल दार्शनिक सोच बहुत मिलती-जुलती है। संयुक्त राष्ट्र के इसी हाल में यह शब्द बहुत बार गूंजा है- वसुधैव कुटुंबकम। हम पूरे विश्व को एक परिवार मानते हैं। ये हमारी संस्कृति, संस्कार और सोच का हिस्सा है। यूएन में भी भारत ने हमेशा विश्व कल्याण को ही प्राथमिकता दी है। भारत वह देश है जिसने शांति की स्थापना के लिए लगभग 50 पीसकीपिंग मिशन में अपने जांबाज सैनिक भेजे। भारत वह देश है जिसने शांति की स्थापना में सबसे ज्यादा अपने वीर सैनिकों को खोया है। आज प्रत्येक भारतवासी संयुक्त राष्ट्र में अपने योगदान को देखते हुए यूएन में अपनी व्यापक भूमिका भी देख रहा है।

भारत जब किसी से दोस्ती करता है तो वह किसी तीसरे के खिलाफ नहीं’

2 अक्टूबर को विश्व अहिंसा दिवस और 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की पहल भारत ने ही की थी। कोएलिशन फॉर डिजास्टर रेजिलेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर और इंटरनैशनल सोलर अलायंस ये भारत के ही प्रयास हैं। भारत ने हमेशा पूरे मानव जाति के हित के बारे में सोचा है न कि सिर्फ अपने बारे में। भारत की नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी से लेकर ऐक्ट ईस्ट पॉलिसी तक, सिक्यॉरिटी ऐंड ग्रोथ फॉर ऑल इन द रीजन इसकी सोच या फिर इंडो-पसिफिक क्षेत्र के प्रति हमारे विचार सभी में इस दर्शन की झलक दिखाई देती है। भारत की पार्टनरशिप का दर्शन भी यही सिद्धांत तय करता है। भारत जब किसी की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाता है तो वह किसी तीसरे के खिलाफ नहीं होता। भारत जब विकास की साझेदारी मजबूत करता है तो उसके पीछे किसी साथी देश को मजबूर करने की सोच नहीं होती। हम अपनी विकास यात्रा से मिले अनुभव साझा करने में कभी पीछे नहीं रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने यूएन में पेश की न्यू इंडिया की बुलंद तस्वीर

बीते कुछ वर्षों में रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म इस मंत्र के साथ भारत ने करोड़ों भारतीयों के जीवन में बड़े बदलाव लाने का काम किया है। ये अनुभव विश्व के बहुत से देशों के लिए उतने ही उपयोगी हैं, जितना हमारे लिए। सिर्फ 4-5 साल में 400 मिलियन से ज्यादा लोगों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ना आसान नहीं था लेकिन भारत ने यह कहकर दिखाया। सिर्फ 5-6 साल में भारत के 600 मिलियन लोगों को खुले में शौच से मुक्त करना आसान नहीं था। सिर्फ 2-3 सालों में 500 मिलियन से ज्यादा लोगों को मुफ्त इलाज से जोड़ना आसान नहीं था लेकिन भारत ने यह करके दिखाया। आज भारत डिजिटल ट्रांजैक्शन में दुनिया के अग्रणी देशों में है। आज भारत अपने करोड़ों नागरिकों को डिजिटल एक्सेस देकर एम्पावरमेंट और ट्रांसपेरेंसी सुनिश्चित कर रहा है। आज भारत 2025 तक अपने प्रत्येक नागरिक को टीबी से मुक्त करने के लिए बहुत बड़ा अभियान चला रहा है। आज भारत अपने गांवों के 150 मिलियन घरों में पाइप से पीने का पानी पहुंचाने का अभियान चला रहा है। कुछ पहले ही भारत ने अपने 6 लाख गांवों को ब्रॉडबैंड ऑप्टिकल फाइबर से कनेक्ट करने की बहुत बड़ी योजना की शुरुआत की है।

पीएम मोदी ने इस मंच का प्रयोग नये भारत को दुनिया के सामने पेश करके किया तो ये भी बताने की पूरी कोशिश कि भारत पुरानी नीति और रीति से निकल कर नई तरफ बढ़ रहा है। जिसमे देश आत्मनिर्भर बन सके और विश्व कल्याण में दुनिया की मदद भी कर सके।