सरकारी मेडिकल कॉलेजों में सीटों की ऐतिहासिक बढ़ोतरी, 25 कॉलेजों में 2750 नए सीट

Government_colleges_seat

एक ऐतिहासिक फैसला लेते हुए सरकार ने शैक्षणिक सत्र 2019-20 में 25 सरकारी मेडिकल कॉलेजों में कुल 2750 नए सीटों की बढ़ोतरी की है| हालाँकि कई दशकों की स्थिरता के बाद साल 2012 से ही मेडिकल सीटों में बढ़ोतरी की जा रही है, लेकिन बीते दो सालों में नए मेडिकल कॉलेजों के खुलने और पुराने कॉलेजों में निर्धारित सीटों की संख्या बढ़ने से इसमें तेजी से इजाफा हुआ है|

उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य मंत्रालय देश के 75 जिला अस्पतालों को मेडिकल कॉलेज में बदलने की अनुशंसा की है| मोदी सरकार के स्वास्थ्य और चिकित्सा सुधारों के अंतर्गत इस प्रोग्राम का लक्ष्य देश में चिकित्सा सेवाओं में प्रशिक्षित लोगों की कमी को पूरा करना है|

सूत्रों के अनुसार एक जिला अस्पताल को मेडिकल कॉलेज में बदलने का खर्च लगभग 325 करोड़ रूपये आता है| प्रथम चरण में 58 जिला अस्पतालों को मेडिकल कॉलेज में बदलने का प्रस्ताव पास हो गया है| द्वितीय चरण में 24 और जिला अस्पतालों का चयन किया गया है| दोनों चरणों में से 39 अस्पतालों ने का करना शुरू कर दिया है, जबकि बाकि अन्य निर्माणाधीन हैं|

सीटों की संख्या में हुई बढ़ोतरी के बाद अब देश में 529 कॉलेजों MBBS सीटों की कुल संख्या 70,978 हो गयी है| इनमे से 35,688 सीट 269 सरकारी मेडिकल कॉलेजों में 35290 सीटें 260 निजी मेडिकल कॉलेजों में हैं| सरकार का लक्ष्य देश में उपलब्ध MBBS सीटों की संख्या में 10,000 की बढ़ोतरी करना है| बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के दौरान अपने घोषणापत्र में देश के साथ ये वादा भी किया था, जिसके जल्द ही पूरा होने के आसार दिख रहे हैं|