सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस चंद्रचूड़ ने जीत लिया सबका दिल – कहा, हिंदी एक खूबसूरत भाषा

मध्य प्रदेश के सियासी संग्राम पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई कर रहे जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने सुनवाई के दौरान कुछ ऐसा कहा जिसने सभी का दिल जीत लिया | दरअसल यह घटना तब घटी जब राज्य विधानसभा अध्यक्ष एन. पी प्रजापति के वकील अभिषेक मनु सिंघवी एक तथ्य का हवाला दे रहे थे। आम तौर पर सुप्रीम कोर्ट में मामलों की सुनवाई और जिरह अंग्रेजी में ही होती है। वकील से लेकर जज तक अंग्रेजी में तथ्यों को रखते और परखते हैं।

सिंघवी विधायकों के इस्तीफा स्वीकार करने के नियम और प्रक्रिया पढ़ रहे थे, जो हिंदी में था। कुछ लाइन पढ़ने के बाद उन्होंने जजों से जानना चाहा कि हिंदी में पढ़े जाने से कोई दिक्कत तो नहीं है? इसपर मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस हेमंत गुप्ता की पीठ ने बड़ा ही रोचक जवाब दिया।

हिंदी एक खूबसूरत भाषा

सिंघवी ने जैसे हिंदी में पढ़े जाने को लेकर पूछा जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, ‘नहीं, नहीं बिल्कुल भी नहीं, यह खूबसूरत भाषा है। (No, No..It’s beautiful language)। जज की टिप्पणी के बाद सिंघवी ने पूरी प्रक्रिया पढ़ी है। जहाँ एक तरफ देश मे कुछ व्यक्ति समूहों मे अंग्रेजी को ज्यादा तवज्जो दी जाती है वहीं देश के सर्वोच्च अदालत मे हिंदी के प्रति अपनी भावना जाहिर कर जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने जाने कितनों का दिल जीत लिया |

मध्य प्रदेश मे सियासी घमासान

सुप्रीम कोर्ट में पिछले दो दिनों से शिवराज सिंह चौहान के वकील और राज्य सरकार के वकीलों के बीच जोरदार बहस चल रही है।  राज्य के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने विधानसभा में फ्लोर टेस्ट की मांग लेकर याचिका दाखिल कर रखी है। शीर्ष अदालत इस मामले की एक-एक बारीकी में जाकर वकीलों से सवाल पूछ रही है। बता दें कि कमलनाथ सरकार से नाराज 22 विधायकों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे के माने जाने वाले इन विधायकों ने कहा है कि सिंधिया जहां भी जाएंगे वे वहीं रहेंगे।