नवंबर में जीएसटी संग्रह में छह प्रतिशत की वृद्धि, पहुंचा 1 लाख करोड़ रुपए के पार

GST collections up 6 percent in November

अर्थव्यवस्था में चल रही गिरावट के बीच मोदी सरकार के लिए राहत की खबर आई है। जीडीपी के मोर्चे पर लगातार मायूसी की खबरों के बीच वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह पर खुशखबरी आई है।

माल एवं सेवा कर संग्रह यानि जीएसटी में नवंबर में छह प्रतिशत की सकारात्मक वृद्धि के साथ पिछले साल की तुलना में प्रभावशाली सुधार देखा गया। दो महीने की नकारात्मक वृद्धि के बाद, नवंबर में एकत्रित सकल जीएसटी राजस्व एक लाख तीन हजार 492 करोड़ रुपये रहा। इस बार नवंबर में केंद्रीय जीएसटी से वसूली 19,592 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी से 27,144 करोड़ रुपये, एकीकृत जीएसटी से 49,028 करोड़ रुपये और जीएसटी उपकर से वसूली 7,727 करोड़ रुपये रही।

सरकार ने एकीकृत जीएसटी से केंद्रीय जीएसटी को 25,150 करोड़ रुपये और एकीकृत जीएसटी से 17,431 करोड़ रुपये नियमित निपटान के रूप में दिए हैं। नवंबर में दाखिल किए गए रिटर्न की कुल संख्या भी बढ़ गई है। इसी तरह उपकर (सेस) की वसूली में 869 करोड़ रुपए आयातित माल पर उपकर से प्राप्त हुए। इससे पहले सितंबर और अक्तूबर महीने में जीएसटी संग्रह में सालाना आधार पर गिरावट आई थी। बयान में कहा गया कि नवंबर में घरेलू लेन-देन पर जीएसटी संग्रह में 12 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। यह इस साल जीएसटी राजस्व में सबसे अच्छी मासिक वृद्धि है।

GST collections crosses Rs 1 lakh crore in Novइससे पहले अक्टूबर में जीएसटी संग्रह 95,380 करोड़ रुपये था। पिछले साल नवंबर में 97,637 करोड़ रुपये की वसूली हुई थी। जुलाई, 2017 में जीएसटी लागू होने के बाद यह आठवां मौका है, जब इसका मासिक संग्रह एक लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर गया है। वहीं, जीएसटी लागू होने के बाद नवंबर 2019 का संग्रह जीएसटी तीसरा सबसे अधिक मासिक संग्रह है। इससे ज्यादा जीएसटी संग्रह अप्रैल, 2019 और मार्च, 2019 में हुआ था।

डिलाइट इंडिया के पार्टनर एम. एस. मणि ने कहा, “त्योहारी महीने में एक लाख करोड़ रुपये के जीएसटी संग्रह को पार करना राजकोषीय घाटे को नियंत्रण में रखने में मदद करेगा। उम्मीद है कि आने वाले महीनों में यह प्रवृत्ति जारी रहेगी।”