ग्रेटा थुनबर्ग: 16 वर्षीय जलवायु कार्यकर्ता ने UN में अपने भाषण से नेताओं को लताड़ा

 Greta Thunberg: 16-year-old climate activist

किशोर पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में एक भावनात्मक और कर्कश भाषण दिया, जिसमें दुनिया के नेताओं पर जलवायु परिवर्तन पर उनकी निष्क्रियता के साथ उनके सपनों और उनके बचपन को चोरी करने का आरोप लगाया गया।

संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संयुक्त राष्ट्र में भाषण देने से पहले 16 साल की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) ने अपने भाषण से लोगों को झकझोर दिया। ग्रेटा ने अपने भाषण में कहा, “आपने हमारे सपने, हमारा बचपन अपने खोखले शब्दों से छीना है लोग मर रहे हैं, पूरा ईको सिस्टम बर्बाद हो रहा है।”

अपने संबोधन के दौरान ग्रेटा भावुक हो गई और कहा, “आपने हमें असफल कर दिया। युवा समझते हैं कि आपने हमें छला है। हम युवाओं की आंखें आप लोगों पर हैं और अगर आपने हमें फिर असफल किया तो हम आपको कभी माफ नहीं करेंगे।”

सोमवार देर शाम को, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ग्रेटा थनबर्ग के भाषण का एक वीडियो रीट्वीट किया, जिसमें उन्होंने कहा “ऐसा लगता है जैसे एक बहुत खुश युवा लड़की अपने एक उज्ज्वल और अद्भुत भविष्य की तलाश कर रही है।”

उनके भाषण के बाद, ट्विटर पर ग्रेटा थनबर्ग का नाम ट्रेंड करने लगा, जिसमें कई प्रमुख जानेमाने हस्तियां पर्यावरण के प्रति उनके जुनून को स्वीकार करती हैं।

गौरतलब है की जलवायु शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए सेलबोट द्वारा अटलांटिक महासागर में यात्रा करने के बाद पिछले महीने के अंत में थनबर्ग संयुक्त राज्य अमेरिका पहुंचे। यूरोप से संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा करने के लिए थुनबर्ग ने उत्सर्जन-मुक्त तरीका को चुना, जिसमे उन्हें 2 सप्ताह का समय लगा ।

कौन है ग्रेटा

ग्रेटा थनबर्ग स्वीडिश एनवायरनमेंट एक्टिविस्ट हैं जो जलवायु परिवर्तन को लेकर दुनियाभर में जागरूकता बढ़ाने का काम कर रही हैं। ग्रेटा थनबर्ग ने अगस्त 2018 में 15 साल की उम्र में स्वीडिश संसद के बाहर प्रदर्शन करने के लिए स्कूल से छुट्टी ले ली थी।