कोरोना को लेकर सरकार का नया कदम – अब फ्लाइट की बीच वाली सीट छोड़ी जाएगी खाली

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना वायरस के प्रभाव को सीमित करने के लिये सरकार हर रोज नये-नये कदम उठा रही है | अगर हवाईजहाज के सफर की बात करें तो सरकार एक नया नियम लेकर आई है | घरेलू उड़ानों पर फिलहाल रोक नहीं लगाई गई है पर ऐसा नहीं है कि हवाई यात्रियों के लिए डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) चिंतित नहीं है। उसने सभी एयरलाइन्स को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि विमान में हर रो में बीच की सीट खाली रखी जाए। यानी दो पैसेंजरों के बीच में एक सीट खाली रहे।

कोरोना वायरस को और फैलने से रोकने के लिए बार-बार सोशल डिस्टैंसिंग की अपील की जा रही है। कंपनियां वर्क फ्रॉम होम पर जोर दे रही हैं, हर जगह लॉकडाउन की स्थिति है। 31 तारीख तक पैसेंजर ट्रेनें बंद हैं ताकि लोग एक-दूसरे से दूर रहें और संक्रमण न फैले। ट्रेनें, बसें आदि बंद हैं, लेकिन घरेलू उड़ानों पर फिलहाल रोक नहीं लगाई गई है |

दो पैसेंजरों के बीच में एक सीट खाली रहे, DGCA ने एक सर्कुलर जारी कर कहा

DGCA की कोशिश है कि यात्रियों के बीच दूरी बने रहे, लिहाजा उसने सभी एयरलाइन्स को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि विमान में हर रो में बीच की सीट खाली रखी जाए। यानी दो पैसेंजरों के बीच में एक सीट खाली रहे। DGCA ने एक सर्कुलर जारी कर कहा है, ‘कोरोना के कारण उपजी इस इमर्जेंसी के कारण विमान में सीट इस तरह से बुक की जाएं ताकि दो पैसेंजर्स के बीच फासला बना रहे।’ DGCA का यह कदम कोरोना के प्रसार को रोकने में अहम टूल सोशल डिस्टैंसिंग मेनटेन करने में मददगार साबित होगा।

पैसेंजर्स के लिए सैनिटाइजर्स की उपलब्धता भी की जाएगी सुनिश्चित 

इतना ही नहीं, रेगुलेटर ने यह निर्देश भी दिए हैं कि केबिन क्रू सेवाएं देते वक्त पैसेंजर्स से जरूरी दूरी बनाए रखें। साथ ही, एयरपोर्ट ऑपरेटरों से भी कहा गया है कि वे पैसेंजर्स के लिए सैनिटाइजर्स की उपलब्धता सुनिश्चित करें और ध्यान दें कि पैसेंजर्स एक-दूसरे के नजदीक न बैठें।

DGCA ने इन नियमों का ऐलान रविवार को दिल्ली में लॉकडाउन के अगले दिन जारी किए हैं। रेगुलेटर ने दोहराया कि दिल्ली एयरपोर्ट से घरेलू उड़ान सेवाएं जारी रहेंगी। हालांकि एयरपोर्ट ऑपरेटर्स का कहना है कि फिलहाल सिर्फ 33 फीसदी फ्लाइट ऑपरेट होंगी क्योंकि एयरलाइन्स उड़ानें रद्द कर रही हैं या कम पैसेंजर्स को देखते हुए मर्ज कर रही हैं।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •