ईमानदार देशवासियों के लिये सरकार की गजब योजना

जो लोग टैक्स की चोरी करते है वो लोग उन लोगों पर खूब तंज कसते है जो ईमानदारी से टैक्स देते है। लेकिन अब जब टैक्स देने वालों का सम्मान सरकार के द्वारा होगा तो जरूर उन्हे शर्म आयेगी और हो सकता है कि वो भी ईमानदारी के रास्ते पर चलने की सोचे।

मोदी सरकार ने एक नीति के तहत तय किया है कि जो  लोग टैक्स चुकाने में ईमानदारी दिखाएंगे, उन्हें राज्य के गवर्नर के साथ चाय पीने, एयरपोर्ट पर चेक-इन में दूसरों से आगे रहने, प्रायॉरिटी पासपोर्ट, खास टोल लेन से गुजरने, एयरपोर्ट लाउंज एक्सेस सरीखे रिवॉर्ड दिए जा सकते हैं। सरकार नियमों का पालन करने का रिवाज मजबूत करना चाहती है और वह ईमानदार टैक्सपेयर्स को रिवॉर्ड देने के लिए एक इंसेंटिव प्रोग्राम बना रही है। यह स्कीम तैयार करने के लिए सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज यानी CBDTके तहत एक कमिटी बनाई गई है। जो इस पर नियम बनायेगी।

ईमानदार नागरिकों का अब होगा सम्मान

सरकार ने ब्लैक मनी के खात्मे के लिए कई कदम उठाए हैं। सरकार का मानना है कि सख्ती के कई उपाय किए गए हैं और अब ईमानदार नागरिकों को रिवॉर्ड देने की जरूरत है ताकि अधिक से अधिक लोग टैक्स जमा करें । इस स्कीम में लोगों का चयन इस आधार पर नहीं होगा कि उन्होंने कितना टैक्स चुकाया। चयन करते वक्त देखा जाएगा कि रिटर्न फाइल करने में लोग कितने रेग्युलर हैं, उन पर कोई जुर्माना लगा है या नहीं, उन पर कोई मुकदमा है या नहीं और उनके खिलाफ सर्च या सर्वे की कार्रवाई कभी की गई है या नहीं। 

कई देशों मे भी ऐसी स्कीम है लागू

ऐसी योजनाएं कई देशों में हैं। जापान में मॉडल टैक्सपेयर्स को राजा के साथ फोटो खिंचवाने का मौका मिलता है। फिलीपींस में ऐसे करदाताओं का नाम वैल्यू ऐडेड टैक्स सिस्टम के तहत नियमों के पालन के लिए लॉटरी में शामिल किया जाता है। साउथ कोरिया में ईमानदार करदाताओं को सर्टिफिकेट दिए जाते हैं। वे एयरपोर्ट पर वीआईपी रूम्स में जा सकते हैं और फ्री पार्किंग का उपयोग कर सकते हैं।पाकिस्तान में हर साल टॉप 100 टैक्सपेयर्स को रिवॉर्ड देने की स्कीम है, जिसके तहत उन्हें एयरपोर्ट्स पर वीआईपी लाउंज का एक्सेस दिया जाता है, इमिग्रेशन काउंटरों पर उनको फास्ट ट्रैक क्लियरेंस सुविधा मिलती है, फ्री पासपोर्ट दिए जाते हैं और ज्यादा बैगेज वे अपने साथ ले जा सकते हैं। 

मतलब साफ है कि अभी तक टैक्स जमा नही करने वालो पर सिर्फ सरकारी सख्ती की जाती थी लेकिन उनके अंदर टैक्स देने की आदत पैदा करने के लिये किसी ने नही सोचा लेकिन अब पहली बार मोदी सरकार देशवासियों के अन्दर ये भावना पैदा करना चाहती है। जैसे स्वच्छ भारत बनाने के लिये मोदी सरकार ने एक जन अभायन छेड़ दिया उसी तरह वो अब इस योजना के तहत टैक्स देने का भी जन अभियान छेड़ने जा रहे है और लगता यही है कि ये अभियान भी सफल होगा.