सरकार का दावा: जल जीवन मिशन की तेज है रफ्तार, समय से पहले 100 फीसद ग्रामीण घरों तक पहुंच जाएगा नल से पानी

ये मोदी सरकार ही है जो योजना लाती है उसे तय वक्त से पहले ही पूरा करने में दिन रात लगी रहती है तभी तो आज योजनाएं या तो समय से पूरी हो रही है, या तय समय से, पहले की तरह नही कि योजना शुरू होने के बाद सालों तक अटकी हुई है। इसी क्रम में साल 2019 में शुरू हुई जल जीवन मिशन पर भी सरकार तेजी के साथ काम करने में लगी हुई है। सरकार की माने तो देश के बड़े राज्यों को लक्ष्य कर बनाई गई रणनीति से जल जीवन मिशन के तहत समय से पहले सौ प्रतिशत ग्रामीण घरों तक नल से जलापूर्ति की कोशिश तेज कर दी गई है। कई राज्यों में पुराने नियमों में सुधार करके जलापूर्ति एजेंसियों की स्थापना के साथ जल जीवन मिशन ने रफ्तार पकड़ ली है। मिशन ने पिछले दो साल में देश के 43 प्रतिशत ग्रामीण घरों तक नल का कनेक्शन देकर जलापूर्ति सुनिश्चित करने में सफलता प्राप्त की है।

 

समय से पहले लक्ष्‍य हो जाएगा पूरा

जल शक्ति मंत्रालय की माने तो जम्मू-कश्मीर में नियमों को सरल बना देने भर से वहां मिशन की रफ्तार तेज हो गई है। पिछले महीने मिशन के लंबित 78 प्रतिशत से अधिक कार्यों का टेंडर हो चुका है। अगले साल की पहली छमाही तक राज्य में सौ प्रतिशत ग्रामीण घरों में जल से नल पहुंच जाएगा। जल जीवन मिशन में तेजी लाने के लिए उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों की बाधाएं दूर करने की कोशिशें की जा रही हैं।

Mapping Groundwater Sources For PM Modi's “Har Ghar Nal Se Jal” Mission |  Planet - Outlook India

ग्रामीण क्षेत्रों पर जोर

मिशन की दो साल की उपलब्धियों का ब्योरा देते हुए मंत्रालय ने बताया कि उत्तर प्रदेश के शहरी क्षेत्रों में जलापूर्ति के लिए जल निगम व जल संस्थान जैसी सरकारी एजेंसियां हैं लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में जलापूर्ति की कोई उचित व खास एजेंसी नहीं थी। इसके लिए पंचायतों के स्तर पर कई छोटी बड़ी एजेंसियां गठित थीं लेकिन उनकी प्राथमिकताओं में नल से जलापूर्ति नहीं थी। लेकिन जल जीवन मिशन के तहत सरकार ने नल से जल पहुंचाने की प्राथमिकता के साथ काम किया है। तभी आज तेजी से गांवों में नल से जल पहुंच रहा है और महिलाओं को इससे फायदा हो रहा है जिसका नतीजा है कि देश में 8.26 करोड़ घरों तक स्वच्छ जलापूर्ति नलों से होने लगा है। गांवों के लोगों के जीवन को सरल और सहज बनाने के लिए तेजी से काम किया भी जा रहा है। आज गांव तक बिजली पानी बैंक की सुविधा पहुंच चुकी है।

जल जीवन मिशन की भूमिका अहम है। देश के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं व बच्चों को पीने का पानी दूर से ढोना पड़ता था। 2019 में जहां कुल 17 प्रतिशत क्षेत्रों में नल से जलापूर्ति होती थी, दो साल के भीतर वह 43 फीसद तक पहुंच गई है।

Leave a Reply