31 दिसंबर को हो सकती है चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की घोषणा, जनरल बिपिन रावत का नाम चर्चा में

केंद्र सरकार देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (Chief of Defence Staff) के नाम की घोषणा आगामी 31 दिसंबर को कर सकती है। चेयरमैन ऑफ चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी (COAC) के बैटन हस्तांतरण समारोह को इसी दिन के लिए स्थगित कर दिया गया था।

उल्लेखनीय है कि वर्तमान सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत 31 दिसंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उन्हें ही यह बैटन नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह को शुक्रवार को इस कथित समारोह सौंपना था जो अब आगामी 31 दिसंबर को किया जाएगा।

क्या करेंगे चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ मुख्यत: रक्षा और रणनीतिक मामलों में प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री के एकीकृत सैन्य सलाहकार के रूप में काम करेंगे| इस पद पर नियुक्ति नियुक्ति का मकसद भारत के सामने आने वाली सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए तीनों सेनाओं के बीच तालमेल बढ़ाना है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को ऐतिहासिक सैन्य सुधार की घोषणा करते हुए कहा था कि भारत की तीनों सेना के लिए एक प्रमुख होगा, जिसे सीडीएस कहा जाएगा। प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद सीडीएस की नियुक्ति के तौर-तरीकों और उसकी जिम्मेदारियों को अंतिम रूप देने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया था।

क्या बदलेगा इस पद पर नियुक्ति के बाद

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की नियुक्ति का सबसे बड़ा फायदा युद्ध के समय होगा। युद्ध के समय तीनों सेनाओं के बीच प्रभावी समन्वय कायम किया जा सकेगा। इससे दुश्मनों का सक्षम तरीके से मुकाबला करने में मदद मिलेगी।

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के लिए जनरल बिपिन रावत का नाम चर्चा में

भारतीय सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सीओएससी में सेना, नौसेना और वायुसेना के प्रमुख शामिल होते हैं। इनमें से वरिष्ठतम अफसर को रिटायर होने तक बारी-बारी चेयरमैन नियुक्त किया जाता है। चूंकि विगत 24 दिसंबर को केंद्रीय कैबिनेट ने सीडीएस पद को मंजूरी दे दी, अब इस पद के लिए सबसे ऊपर जनरल बिपिन रावत का नाम चर्चा में है।