किसानों को जलवायु परिवर्तन से बचाने के लिए सरकार कर रही है काम : पीएम मोदी

पीएम मोदी ने तेलंगाना  की राजधानी हैदराबाद से देश के किसानों की आय बढ़ाने के लिए कैसे सरकार काम कर रही है इसका रोड मैप पेश किया।  पीएम मोदी ने इस दौरान किसानों से अपील करी की वो खेती करने की पुरानी तरीके के जगह नई तकनीक का इस्तेमाल करें। जिससे नये युग की शुरूआत हो। 

डिजिटल एग्रीकल्चर, ये हमारा फ्यूचर है पीएम मोदी

भारत में 15 एग्रो-क्लाइमेट जोन हैं। हमारे यहां, वसंत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, हेमंत और शिशिर, ये 6 ऋतुएं भी होती हैं। यानि हमारे पास एग्रीकल्चर से जुड़ा बहुत विविध और बहुत प्राचीन अनुभव है। उन्होंने कहा, जलवायु परिवर्तन से अपने किसानों को बचाने के लिए हमारा फोकस बुनियादी बातों पर वापस लौटना और भविष्य की ओर आगे बढ़ना, दोनों के फ्यूजन पर है। हमारा फोकस देश के उन 80 प्रतिशत से अधिक छोटे किसानों पर है, जिनको हमारी सबसे अधिक जरूरत है। पीएम मोदी ने कहा, बदलते हुए भारत का एक महत्वपूर्ण पक्ष है डिजिटल एग्रीकल्चर। ये हमारा फ्यूचर है और इसमें भारत के टेलेंटेड युवा, बहुत बेहतरीन काम कर सकते हैं। डिजिटल टेक्नॉलॉजी से कैसे हम किसान को सशक्त कर सकते हैं, इसके लिए भारत में प्रयास निरंतर बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा, हम दोहरी रणनीति पर काम कर रहे हैं। एक तरफ हम जल संरक्षण के माध्यम से नदियों को जोड़कर एक बड़े क्षेत्र को सिंचाई के दायरे में ला रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ, हम कम सिंचित क्षेत्रों में पानी की बेहतर यूज बढ़ाने के लिए माइक्रो इरिगेशन पर जोर दे रहे हैं। इतना ही नही पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत में हम FPOs और एग्रीकल्चर वैल्यू चेन के निर्माण पर भी बहुत फोकस कर रहे हैं। देश के छोटे किसानों को हजारों FPOs में संगठित करके हम उन्हें एक जागरूक और बड़ी मार्केट फोर्स बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा, हम खाद्य सुरक्षा के साथ-साथ आहार सुरक्षा पर फोकस कर रहे हैं। इसी विजन के साथ बीते 7 सालों में हमने अनेक जैव-फोर्टिफाइड किस्मों का विकास किया है।

Image

बजट में किसानों के विकास के लिए सरकार ने लीये कई बड़े फैसले

इस दौरान पीएम मोदी ने देश के किसानों को फिर से एक बार बताया कि सरकार ने तेजी से किसानों का जीवन बदले इसके लिये बजट में प्रावधान किये है। इसमें तकनीक का इस्तेमाल और बढ़े इसका भी विशेष ध्यान दिया गया है। मोदी सरकार ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने का काम करने जा रही है। सरकार के इस फैसले से जैविक खेती करने वाले किसानों को काफी लाभ मिलेगा। बजट 2022 में इस बात का एलान किया गया है कि अब किसानों के खेतों की जमीन का डिजिटलीकरण भी होगा। इसके अलावा सरकार राज्य सरकार के साथ मिलकर उन किसानों की मदद करेगी, जो फलों और सब्जियों की उन्नत किस्म की खेती करते हैं। इसके अलावा किसानों को डिजिटल सर्विस के अंतर्गत खाद, बीज, दवाई, दस्तावेज आदि से संबंधित सेवाएं मुहैया कराई जाएंगी।जिससे किसान की आय दोगुनी हो सके।

किसान को लेकर वैसे कई लोग आज सरकार के लिए भ्रभ पैदा करते दिखाई देते हैं लेकिन जिस तरह से सरकार ने किसानों के लिए रोड मैप तैयार किया है। उससे ये कहना गलत ना होगा कि आजादी के बाद ये एक सरकार है जो किसानों के हित में सबसे ज्यादा काम कर रही है।