किसानो की आय बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार ला रही है आधुनिक तकनीक

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

केंद्र सरकार किसानो के लिए खेती करने के नए तकनीको को लेकर आ रही है| आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक का कृषि में उपयोग करके किसानो की तक़दीर बदलने की तैयारी केंद्र सरकार कर सही है| इस साल रबी फसलों से इस तकनीक का इस्तेमाल शुरू कर दी जाएगी|

कृषि वैज्ञानिकों का दावा है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक फसलों को कीट के हमले, पाला और ओला वृष्टि से होने वाले नुकसान से बचाने में मददगार साबित होगी। साथ ही फसल में लगने वाली लगत घटेगी और किसानो की आय में वृद्धि होगी|

इस तकनीक की मदद से दो हफ्ते से लेकर दो माह तक का पूर्वानुमान लगाया जा सकेगा, साथ ही पहले से ही फसल बोने के समय, खेत में नमी, उर्वरक और सिंचाई की मात्रा, बाढ़ व सूखे के बारे में किसानो को समय रहते सूचित किया जा सकेगा| इससे फसलो को होने वाले नुकसान से बचाया जा सकता है|

जुलाई में केंद्रीय कृषि मंत्रालय, राज्यों के कृषि विश्वविद्यालय, मौसम विभाग और नीति आयोग के अधिकारियों की एक अहम बैठक होगी| जिसमें किस तरह से नवम्बर आने तक इस तकनीक को लागु कर दिया जाए इस पर परिचर्चा होगी|

देश भर में किसानो को इसकी सुचना कॉल सेंटर के माध्यम से वॉयस कॉल और एसएमएस के जरिए दी जाएगी| इसकी विशेषता यह है कि व्यापक स्तर पर किसानों को व्यक्तिगत खेती-बाड़ी की सूचना दे पाना संभव होगा।

आधुनिक तकनीक की मदद से किसानो को खेतों की जोताई, फसलो की बुआई और कटाई तक का सही समय मालूम होगा| इससे ना केवल किसानो को कम लागत लगेगी बल्कि संसाधनों की भी काफी बचत होगी|


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •