सुरक्षाबलों को नहीं होगी तकलीफ – मोदी सरकार ने 15 कंपनियों को दिए बुलेटप्रूफ जैकेट बनाने का लाइसेंस

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

एक समय था जब हमारे देश में सुरक्षाबलों के जवान अपनी जान हथेली पर लेकर भी हमारी सुरक्षा में मुस्तैद रहते थे| दुश्मनों और आतंकियों की गोली से उन्हें बचाने के लिए बुलेटप्रूफ जैकेट की कमी थी| पहले तो सुरक्षा बजट में कमी और फिर कई बार इसके लिए सीमित बजट होने के वावजूद भी बुलेटप्रूफ जैकेट की सप्लाई के लिए हमें दुसरे विकसित देशों पर निर्भर रहना पड़ता था| लेकिन नरेन्द्र मोदी की सरकार में ये सारी समस्याएँ अब बीते जमाने की बात हो गयी है| अब हमारे देश में बुलेटप्रूफ जैकेट स्वदेशी तकनीक से ही बनाये जा रहे हैं|

मोदी सरकार ने 15 कंपनियों को दिए बुलेटप्रूफ जैकेट बनाने का लाइसेंस

मेक इंडिया प्रोग्राम के तहत अब देश में ही बुलेटप्रूफ जैकेट का निर्माण द्रुत गति से हो रहा है| लेकिन अत्यधिक मांग को पूरा करने के लिए मोदी सरकार ने देश की 15 कंपनियों को बुलेटप्रूफ जैकेट बनाने का लाइसेंस दिया है|

रक्षा उत्पादन विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार देश को हर साल 10 लाख से ज़्यादा बुलेटप्रूफ जैकेट की जरूरत है| इन आंकड़ों में अपने देश की जरूरतों के अलावा विदेशों में निर्यात के आंकड़े भी शामिल हैं| जी हाँ, चौंकने की जरुरत नहीं है, अब हमारा देश भारत सिर्फ स्वदेश में ही बुलेटप्रूफ जैकेट नहीं बनाता बल्कि इसका निर्यात भी करता है| रक्षा उत्पादन विभाग की इसी रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा किया गया है कि देश में बनने वाली बुलेटप्रूफ जैकेट का निर्यात दुनिया के 18 देशों में हो रहा है|

क्या ख़ास है देश में ही बनने वाला बुलेटप्रूफ जैकेट में

उल्लेखनीय है कि स्वदेश में ही निर्मित इन बुलेटप्रूफ जैकेट की खासियत है कि ये एके 47, एसएलआर 7.62 और इंसास जैसे अत्याधुनिक हथियारों के गोलियों की मार झेलने की क्षमता रखती है| इस जैकेट का निर्माण एक खास तरह के स्‍टील (फेंटम स्‍टील) से हुआ है| इसमें फाइबर बेस कंपोजिट मैटीरियल का भी इस्‍तेमाल किया गया है| फेंटम स्‍टील की स्‍ट्रेंथ सामान्‍य स्‍टील से आमतौर पर पांच गुना होती है| इन बुलेटप्रूफ जैकेट को हल्‍का और असरदार बनाने के लिए फेंटम स्‍टील के साथ टाइटेनियम और जिरकेनियम नामक मिश्र धातुओं को भी मिलाया गया है|

इस बुलेटप्रूफ जैकेट की एक और खासियत है कि यह 360 डिग्री सुरक्षा प्रदान करता है| जिसका मतलब है कि अब जवानों को सिर्फ सामने और पीछे से नहीं बल्कि साइड से गोली लगने की समस्या से भी निजात मिलेगी| साथ ही साथ इसमें गले के पास भी सुरक्षा प्रदान करने वाली सुविधा दी गई है|


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •