खौफ के माहौल में विदेश में फंसे भारतीयों के लिये अच्छी खबर

चीन, ईरान में हो या फ्रांस, अमेरिका या फिर इटली अगर आप कोरोना वायरस के चलते विदेश में रूकने पर मजबूर है और आपका वीजा खत्म होने वाला है तो ये खबर आप के लिये एक अच्छा संदेश लेकर आई है  

विदेश मंत्रालय ने वीजा बढ़ाने का किया अनुरोध 

यूरोपीय यूनियन समेत दुनिया के जिन भी देशों में भारतीय गए हैं और कोरोना वायरस के चलते वहां ठहरने पर मजबूर हैं, वह बेफिक्र रहें क्योकि भारत सरकार उनका वीजा बढ़ाने के लिए अनुरोध कर रही है। विदेश मंत्रालय की माने तो यूरोपीय यूनियन समेत तमाम देशों के नागरिकों को यही सहूलियत भारत दे रहा हैं,ऐसी सुविधा भारत के लोगों को मिले इसके लिये बात की जा रही है।  भारत में भले ही 19 मार्च तक कोरोना के 165 से अधिक मामले सामने आए हैं लेकिन भारत के बाहर इससे कहीं ज्यादा भारतीय कोरोना के संक्रमण के शिकार हो चुके हैं 

विदेश में बनाई जांच लैब 

संसद के भीतर लोकसभा में विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरण ने देश के बाहर कोरोना से प्रभावित भारतीयों की जानकारी सांसदों दी। विदेश राज्य मंत्री ने बताया, कि भारत में ना सिर्फ अपने देश में कोरोना के खिलाफ मुहिम चलाई है बल्कि इसके बचाव के व्यापक तौर पर इंतजाम किए हैं, इसके साथ ही भारत ने चीन समेत तमाम पड़ोसियों को जिनको जरूरत थी मेडिकल इक्विपमेंट्स समेत तमाम मेडिकल मदद भी मुहैया कराई है।

276 भारतीय जिन देशों में कोरोना के संक्रमण से प्रभावित हैं, उनमें सबसे ज्यादा ईरान में 255 भारतीय कोरोना के गिरफ्त में आए हैं। इसके साथ ही इटली में पांच भारतीय और संयुक्त अरब अमीरात में 12 भारतीय कोरोना के संक्रमण से ग्रस्त हुए हैं इन 3 देशों के अलावा हांगकांग में एक भारतीय कुवैत में एक भारतीय रवांडा में एक भारतीय और श्रीलंका में दो भारतीयों को कोरोना संक्रमण हुआ है।

भारत ने ईरान में पहले से ही एक लैब बनाया हुआ है जिसके जरिए वहां पर जो भारतीय हैं उनके सैंपल भारत लाया जा रहे हैं, उनको टेस्ट किया जा रहा है, और जो नेगेटिव पाए जा रहे हैं उनको बचाव करके भारत लाया जा रहा है, और उसी तरह की प्रोसेस इटली में भी भारत अपना रहा है, क्योंकि इटली और इरान की दो देश है, जहां सबसे ज्यादा भारतीय इससे प्रभावित हैं और यह दोनों देश खुद ही होना के सबसे ज्यादा शिकार हैं।

एक तरफ  जहां दुनिया भर से मोदी सरकार भारतीयों को इस वायरस से बचा रही है तो जो लोग कागजी कार्यवाही में परेशान न हो इसका भी ध्यान रख रही है तभी तो वीजा बढ़ाने की बात करके भारतीयों को बड़ी सहूलियत देने में लगी है। ऐसे में सरकार के इस कदम की जितनी तारीफ हो वो कम है।