नए भारत की आज दुनिया में हो रही जय जयकार

विश्व पटल पर आज भारत की तूती बोल रही है जो ये बतलाती है कि भारत अब आत्मनिर्भर होता जा रहा है। अमेरिका को या दूसरे देश भारत की क्षमता का लोहा मान रहे हैं तो विश्व के संगठन भारत की बात को न केवल सुन रहे हैं बल्कि उसपर अमल भी कर रहे हैं, तभी तो संयुक्त राष्ट्र आज भारत की तारीफ के कसीदे पढ़ रहा है।

Image result for who

 

वैक्सीनेशन के मामले में भारत सबसे बेहतर: WHO

देश के भीतर के लोग मोदी सरकार पर कितने भी आरोप लगाये कि वो कोरोना से निपटने में विफल साबित हो रहे है लेकिन विश्व के संगठन कोरोना से निपटने में भारत के रोल को सबसे बढ़िया बता रहे है। आज महज 27 दिन में भारत ने 70 लाख लोगों की वैक्सीनेशन की जा चुकी है जो एक रिकार्ड बनाता है। आज भारत उन देशों से काफी आगे है जहां भारत से पहले वैक्सीनेशन का काम शुरू हुआ था। WHO के भारत में प्रतिनिधि रॉडरिको ऑफरिनकी माने तो भारत वैक्सीनेशन कार्यक्रम में पूरे समर्पण और ताकत के साथ लगा हुआ है। हम देख रहे हैं कि ये बेहद सफल कार्यक्रम है। वही कोरोना महामारी के दौरान भारत न सिर्फ अपने देशवासियों का वैक्सीनेशन कर रहा है बल्कि दूसरे मुल्कों की मदद भी कर रहा है। भारत को फरवरी में 25 देशों को कमर्शियल तौर पर 2.4 करोड़ वैक्सीन डोज भेजने की मंजूरी मिल गई है। जनवरी में भारत ने 1.05 करोड़ वैक्सीन का निर्यात किया था।

संयुक्त राष्ट्र ने भी भारत का लोहा माना

इसके साथ साथ संयुक्त राष्ट्र भी आज भारत पर भरोसा जता रहे है और बोल रहा है कि भारत ने वर्तमान में कई मुद्दों पर सकारात्मक सहयोग विश्व को दे रहा है। खासकर कोविड 19 हो, जलवायु परिवर्तन हो या फिर शांति रक्षा मिशन, हर मुद्दे पर भारत विश्व की सहायता कर रहा है। जलवायु परिवर्तन के मुद्दे की बात करे तो जिस तरह से मोदी सरकार ने स्वच्छ भारत मिशन सहित हर घर नल से जल योजना की शुरूआत की है वो ये बताती है कि सरकार जलवायु परिवर्तन को लेकर कितनी सजग है। वही आज ऊर्जा के मामले में भी सोलर ऊर्जा का उपयोग भारत में बढ़ रहा है वो ये बताता है कि आने वाले दिनों में भारत विश्व में मिसाल कायम करेगा। इसी तरह कोरोना के मामले में भी भारत ने विश्व को एक राह दिखाई है जो ये बताती है कि मुश्किल कितनी भी हो ईमानदारी से निपटा जाये तो जीत जरूर होती है।

मोदी राज की सबसे बड़ी कामयाबी अगर कोई है तो वो है देश में सकारात्मकता की धारा प्रवाह करना जिसमें देशवासी शामिल होकर देश को आगे बढ़ा रहे है बल्कि विश्व को एक दिशा भी दे रही है जिसको लेकर विश्व में आज भारत की वाहवाही हो रही है।