देश के पहले CDS पद को सुशोभित करेंगे जनरल बिपिन रावत

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जैसा कि कयास लगाये जा रहे थे, जनरल बिपिन रावत देश के पहले CDS (Chief of Defense Staff) होंगे| IndiaFirst ने भी सूत्रों के हवाले से ये आकलन किया था कि जनरल विपिन रावत देश के प्रथम चीफ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ हो सकते हैं|

31 दिसंबर को हो सकती है चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की घोषणा, जनरल बिपिन रावत का नाम चर्चा में

उल्लेखनीय है कि सेनाध्यक्ष बिपिन रावत 31 दिसंबर को सेनाध्यक्ष पद से रिटायर हो रहे हैं और प्रथम चीफ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ की दौड़ में जनरल रावत का नाम सबसे ऊपर था| सीडीएस का पद ‘फोर स्टार’ जनरल के समकक्ष होगा और सभी सेनाओं के प्रमुखों में सबसे ऊपर होगा।

सीडीएस के रूप में पदभार सँभालने के बाद जनरल रावत पर देश की तीनों सेनाओं में साझी सोच विकसित करने और उन्हें एकीकृत तरीके से ऑपरेशनों को अंजाम देने में सक्षम बनाने की बड़ी जिम्मेदारी होगी। साथ ही भारतीय सेनाओं में स्वदेशी साजो-सामान का उपयोग बढ़ाने का भी दायित्व उनके ऊपर होगा।

बता दें कि 31 दिसम्बर को सेनाध्यक्ष बिपिन रावत के रिटायर होने के बाद उनकी जगह मनोज मुकुंद नरवणे नए आर्मी चीफ होंगे।

केंद्र सरकार ने किया था नियमों में संशोधन

उल्लेखनीय है कि रक्षा मंत्रालय ने सेना नियमों, 1954 में कार्यकाल और सेवा के नियमों में संशोधन किया है। रक्षा मंत्रालय ने 28 दिसंबर की अधिसूचना में कहा है कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) या ट्राई-सर्विसेज प्रमुख की सवा अवधि की उम्र 65 साल तक होगी। अधिसूचना में ये भी प्रावधान था कि “केंद्र सरकार अगर जरूरी समझे तो जनहित में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की सेवा को विस्तार दे सकती है।“

लेकिन चीफ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ एक बार पद छोड़ने के बाद किसी भी सरकारी पद को ग्रहण करने के पात्र नहीं होंगे। लेकिन सीडीएस का पद छोड़ने के पांच साल बाद सरकार से पूर्वानुमति के बाद वो कोई प्राइवेट सर्विस जॉइन कर सकता है।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •