गांधी संत तो मोदी महंत : पर कैसे ?

महात्मा गांधी वो संत हैं जिसे सारी दुनिया सिर्फ इस लिये पूजती है क्योकि उन्होने समूचे विश्व मे शांति और अंहिसा के जरिये सिर्फ प्यार बांटा लेकिन इसके बावजूद भी इस सत्य के पुजारी की आवाज को कुछ लोगों ने बंदूक के बारूद से थाम दिया.

लेकिन ऐसा क्या हुआ कि आजादी के बाद सड़को के नाम तो गांधी पर रख दिये गये लेकिन जिस तरह का देश गांधी चाहते थे वो नही तैयार हो पाया लेकिन अब गांधी के सपनो को सकार करने का बीड़ा मोदी जी ने उठाया है। तभी तो मोदी सरकार की हर योजना मे गांधी के भारत के दर्शन देखने को मिलता है।

स्वच्छ भारत-  आजादी के बाद से आई सरकारे देश के लिये कई बड़ी योजना तो लेकर आई लेकिन जो सोच गांधी की थी कि भारत गंदगी से मुक्त हो इसपर किसी ने विचार नही किया लेकिन मोदी सरकार के आते ही सबसे पहले मोदी जी ने गांधी के इस सपने को पूरा करने के लिए स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत की जिसका असर ये हुआ कि आज देश मे गंदगी को दूर करने के लिये लोगों मे जागरुकता आई है। देश मे करीब 11 ऐसे राज्य है जो पूरी तरह से आज खुले मे शौचमुक्त घोषित कर दिया है। जिसके तहत आज 5 लाख गाँवो मे शौचालय की व्यवस्था हो गई है। तो 600 शहरो मे भी  हर घर मे शौचालय बनाये गये है। यानी की गांधी की उस सोच को आज हकीकत की तस्वीर पहनाई जा रही है।

 

मेक इन इड़िया- कोई भी देश तभी आगे बढ़ सकता है जब वो उत्पादन ज्यादा करे क्योकि इससे जहां रोजगार बढ़ता है तो वही देश की माली हालत भी दुरूत होती है. इसी लिये तो गांधी जी हमेशा स्वदेशी का समर्थन करते आये थे जिसे हकीकत मे उतारा है पीएम मोदी की मेक इन इडिया गांधी का वही सपना है जिसे उन्होने स्वदेशी के चलते देखा था। लेकिन आज देश मे जब खुद सेना के लिए अस्त्र बनाये जा रहे है तो वही अंतरिक्ष मे सबसे सस्ता यान बना कर हमने दिखा दिया कि मेक इन इड़िया का जलवा सारे जहां मे फैल रहा है। साथ साथ आज विश्व बाजार मे हमारे बनाये गये समान की ताकत इस तरह बढ़ी है कि देश मे बनी ट्रेन 18 को खरीदने के लिये कई बड़े देश  आगे आये है जो  ये बताती है कि स्वदेशी का सपना अगर किसी ने साकार किया है तो वो है पीएम मोदी ने और आज वो इस काम को और जोरशोर से करने मे भी लगे हुए है।

नारी सम्मान – गांधी जी हमेशा ही महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिये काम करते आये थे और वो नारी मे दुर्गा की शक्ति को तलाशने पर  जोर देते थे। आज की सरकार की योजनाओ से तो यही लगता है कि सशक्त नारी बनाने के लिये जो कदम उठाये गये है वो पहले की सरकार को न के बराबर ही था। बेटी बचाओं बेटी बढ़ाओं योजना हो, उज्जवला योजना हो,सुकन्या योजना हो या फिर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत महिलाओ के नाम मकान देने की बात, हर योजना मे महिला को मजबूत करने का काम किया मोदी सरकारने। इतना ही नही तीन तलाक  बलात्कारियों को फांसी की सजा का प्रावधान लाकर जिस तरह से कानून बनाया गया इससे भी देश की महिला मजबूत हुई है। मोदी सरकार ही पहली सरकार है जिसमे रक्षा मंत्री, विदेश मंत्री सहित कई अहम पदो मे महिलाए जिम्मेदारी निभा रहीहै। फौज मे जब महिलाएं कदमताल करते हुए दिखाई देती है तो लगता यही है कि हा आज गांधी का सपना सकार हो रहा है.

भ्रष्टाचार से मुक्ति–  गांधी जी देश से भ्रष्टाचार से मुक्ति के लिये हमेशा आंदोलन करते आये है और इसे देश का कैंसर बताते थे। गांधी जीके इसी कैंसर का इलाज मोदी जी की सरकार बखूबी कर रही है। नोटबंदी हो या जीएसटी, या फिर बैंको को चपत लगाने वाले बड़े कारोबारीयों पर जिस तरह से नकेल मोदी सरकार ने कसा है उससे तो यही साबित हो रहा है कि देश से आज भ्रष्टचार पूरी तरह से खत्म हो रहा है। तभी तो 6 हजार करोड के करीब देश का पैसा हजम करने वाली की संपति जब्त की है।  इतना ही नही डिजिटलाईजेशन के चलते देश मे आज दलाल औऱ बिचौलियों के लिए शामत आ चुकी है।

देश मे साथ मिल जुलकर रहे की भावना–  गांधी जी हमेशा कहते थे कि हिन्दू हो या मुस्लिम आपस मे है भाई भाई और इन दोनो को इस देश मे प्रेम से रहना चाहिये साथ ही साथ दूसरे धर्म के लोग भी इस देश मे बिना भय के रह सकते है। गांधी के दिखाये गये इस मार्ग पर अगर कोई नेता चला है तो वो है पीएम मोदी जिनकी सरकार का नारा ही है सबका साथ सबका विकास और इसी नारे के जरिये बिना धर्म देखे मोदी जी की सरकार काम कर रह है, फिर वो स्वास्थय सेक्टर मे हो या फिर शिक्षा का क्षेत्र हो, इसी क्रम मे बिना आरक्षण के कानून को बदले जिस तरह से मोदी सरकार ने समान्य लोगों को 10 फीसदी आरक्षण दिया है वो तारीफ के काबिल है।

इन सब कामो को देख कर तो यही लगता है कि सच मे गांधी के सपने का भारत अगर कोई बना रहा है तो वो है पीएम मोदी। इसीलिये अगर गांधी को संत कहते है तो देश को न्यू इडिया मे तब्दील करने वाले मोदी को महत कहा जाये तो गलत न होगा।