पहली बार पूर्ण बहुमत के साथ गैर कांग्रेसी सरकार की वापसी तय

आज पूरा भारत वर्ष भाजपामय हो चूका है, चारो तरफ कमल खिल चूका है| इतिहास में पहली बार पूर्ण बहुमत के साथ किसी गैर कांग्रेसी सरकार का गठन होना तय लग रहा है| जहाँ २०१४ में भाजपा को २८२ सीट मिली थीं, वही इस बार चुनाव आयोग के आधिकारिक आंकड़ों पर नजर डालें, तो भाजपा २९० के पार जाकर रुक सकती है। अभी सीटों का आंकड़ा एनडीए के लिए लगातार ३४९ के आस पास मंडरा रहा है|

अगर सब कुछ रुझानो के मुताबिक ही सामने आता है तो इस देश में यह पहली बार होगा की कोई गैर कांग्रेसी सरकार पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापस आएगी| ऐसा पहले अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में भाजपा ने तीन बार किया था पर कई दलों की बैसाखी के साथ। जो मौका-बेमौका भाजपा पर दबाव बनाते रहते थे।

अब तक रुझानो के हिसाब से गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश, दिल्ली, और मुंबई में बीजेपी ने कांग्रेस का पूरी तरह से सफाया कर दिया है| अमित शाह ने प्रेस वार्ता में कहा था, “इस बार का चुनाव परिणाम आंधी नहीं सुनामी लायेगा”, और ये सच होता भी दिख रहा है|

गिरिरिज से लेकर रविशंकर तक सभी आगे दिख रहे है रेस में|

अब ये देखना दिलचस्प होगा की की मंत्रिमंडल का गठन किस तरह से होता है, क्यूंकि इस बार सरकार पर किसी भी दल का कोई दबाव नहीं होगा|