देश में फिर पूर्ण बहुमत से भाजपा की सरकार बनने जा रही है: पीएम मोदी

लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र भाजपा के पक्ष में वोट बटोरने के लिए धुआंधार चुनावी रैलियों को संबोधित कर रहे प्रधानमंत्री मोदी आज ओडिशा पहुंचे थे| ओडिशा के सुंदरगढ़ में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने अपने शुरूआती संबोधन में कहा कि, “मुझे बताया गया कि पहली बार देश का कोई प्रधानमंत्री सुंदरगढ़ आया है. लेकिन आज भी कोई प्रधानमंत्री यहां नहीं आया है, बल्कि ओडिशा का प्रधानसेवक यहां आया है|”

पीएम मोदी ने इस दौरान विपक्षी पार्टियों पर भी जमकर निशाना साधा| उन्होंने कहा कि कई पार्टियां पैसे से बनी हैं, लेकिन बीजेपी, कार्यकर्ताओं के पसीने से बनी है| बीजेपी ना तो पैसे से बनी है और ना ही परिवार से बनी है| बीजेपी कोई बाहरी विचारधारा से भी नहीं बनी है| प्रधानमंत्री ने कहा कि आज बीजेपी का झंडा उन क्षेत्रों में भी लहरा रहा है, जहां एक समय ऐसा नामुमकिन था| बीजेपी दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक संगठन है| आज हम कांग्रेस और उससे बनी पार्टियों के खिलाफ मजबूत विकल्‍प हैं|

प्रधानमंत्री ने रैली के दौरान अटल बिहारी वाजपेयी के पंक्तियों को याद करते हुए कहा कि, “अटल जी ने कहा था – अंधेरा छंटेगा, सूरज निकलेगा, कमल खिलेगा| आज जब मैं ओडिशा आया हूं, तो मैं देख रहा हूं की चाहे केंद्र हो या राज्य यहां कमल खिलना तय है|” उन्‍होंने कहा, “मैं भारतीय जनता पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता को नमन करता हूं| उनके परिश्रम से ही आज देश में पूर्ण बहुमत की सरकार है, और अब उनके ही परिश्रम से, देश में एक बार फिर पूर्ण बहुमत की सरकार बनने जा रही है|”

पीएम मोदी ने इस दौरान पाकिस्‍तान में भारतीय वायुसेना की ओर से जैश-ए-मोहम्‍मद के ठिकानों पर की गई एयरस्‍ट्राइक पर कहा कि कोई भी राजनीतिक दल एयरस्‍ट्राइक और सर्जिकल स्‍ट्राइक के बारे में नहीं सोच सकता| यह मजबूत हो रहे भारत का संकेत है| सशक्‍त और मजबूत भारत के लिए मजबूत सरकार होना जरूरी है|

रैली को संबोधित करने के दौरान प्रधानमंत्री ने बीजद सरकार और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि क्षेत्र के आधार पर जो भेदभाव ओडिशा की बीजद सरकार कर रही है, ऐसा ही भेदभाव कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने भी दशकों से पूरे पूर्वी भारत के साथ किया है| ओडिशा में बीजद सरकार की नीयत ठीक नहीं है| यहां की सरकार किसानों को मिलने वाली वित्‍तीय मदद और आयुष्‍मान योजना के तहत गरीबों को निशुल्‍क इलाज उपलब्‍ध कराने में रोड़ा बनी है| उन्‍होंने कहा कि बीजद की नीयत ठीक होती तो किसानों को उनकी उपज की लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्‍य मिलता जो चौकीदार ने आपके लिए तय किया था| बीजद की नीयत ठीक होती तो आयुष्‍मान भारत का फायदा आपको मिलता| लेकिन ऐसा नहीं हुआ, क्योंकि ऐसा करना उनके नियत में ही नहीं था|