28 मार्च से रेलवे शुरू करेगा ‘रामायण एक्सप्रेस’, जानिए कहां कराएगी दर्शन?

From March 28, Railways will start 'Ramayana Express'

सनातन संस्कृति, परंपरा, धर्म और विरासत अपने-आप में अनूठी है। देश की इस सांस्कृतिक विरासत और हिन्दू धर्म के प्रति शुरू से पीएम मोदी की अगाध आस्था रही है और ये उनके हिन्दू धर्म से जुड़ें कार्यों द्वारा परिलक्षित होता है। पीएम मोदी ने हिन्दू धर्म से जुड़े स्थलों के विकास और संवर्धन के लिए अनेक कदम उठाए।

अब भगवान राम में श्रद्धा रखने वालों के लिए अच्छी खबर है। महाकाल एक्सप्रेस के बाद अब आईआरसीटीसी की योजना श्री रामायण एक्सप्रेस चलाने की है, जो श्रद्धालुओं को भगवान राम से जुड़े प्रमुख तीर्थ स्थलों की यात्रा कराएगी। आईआरसीटीसी यह विशेष पर्यटक ट्रेन 28 मार्च से चलाने जा रहा है, जिसमें भगवान राम से जुडे उन सभी पर्यटन स्थेलों का दौरा शामिल होगा, जिन्‍हें ‘भारत का रामायण सर्किट’ भी कहा जाता है।

28 मार्च से शुरू होगी यात्रा

भगवान राम से जुड़े प्रमुख तीर्थस्थ्लों तक पहुंचाने वाली श्री रामायण एक्सप्रेस ट्रेन 28 मार्च को दिल्ली से अपनी यात्रा शुरू करेगी, जिसमें इच्छुक पर्यटक दिल्ली के सफदरजंग से सवार हो सकते हैं। इसके अलावे गाजियाबाद, मुरादाबाद, बरेली और लखनऊ स्टे्शनों से भी यह ट्रेन ली जा सकती है। स्लीपर क्लास में इसका किराया प्रति व्यक्ति 16,065 रुपये होगा, जबकि वातानुकूलित श्रेणी में प्रति व्यक्ति किराया 26,775 रुपये होगा।

‘श्री रामायण एक्सप्रेस’ (Shri Ramayana Express) में 10 कोच होंगे जिसमें पांच स्लीपर क्लास के गैर-वातानूकूलित कोच और पांच एसी के 3 टीयर कोच होंगे। आईआरसीटीसी के अनुसार बुकिंग पूरी तरह से पहले आओ पहले पाओ के मुताबिक होगी। इस ट्रेन को ऐसे डिजाइन किया जा रहा है जिससे सफर के दौरान यात्रियों को तीर्थाटन का अनुभव कराया जा सके। ट्रेन के अंदर भजन-कीर्तन के ऑडियो और वीडियो की व्यवस्था की गई है।

यात्रा में शामिल तीर्थ स्थल

इस ट्रेन की 16 रातों-17 दिनों की यात्रा में यात्री भगवान राम से जुड़े सभी पर्यटन स्थलों का दौरा करेंगे जिन्हें ‘भारत का रामायण सर्किट’ भी कहा जाता है। यह ट्रेन रामायण सर्किट के महत्वपूर्ण स्थलों जैसे नंदीग्राम, सीतामढ़ी, जनकपुर, वाराणसी, प्रयाग, श्रृंगपुर, चित्रकूट, नासिक, हम्पी और रामेश्वरम को कवर करेगी। जब भगवान राम ने अयोध्या पर चढ़ाई की थी तो इसके पहले रामेश्वरम में ही शिवलिंग की स्थापना कर भगवान शिव की पूजा की थी, लिहाजा इस सर्किट का महत्वपूर्ण स्थल रामेश्वरम भी है, जो इस रामायण सर्किट में शामिल है और रामायण एक्सप्रेस के जरिए तीर्थ यात्री दर्शन कर सकेंगे।

इस तरह अयोध्या से लेकर जनकपुर और चित्रकूट से लेकर रामेश्वरम तक जो लोग भगवान राम से जुड़े तीर्थ स्थानों के दर्शन करना चाहते हैं, उनके लिए रामायण एक्सप्रेस से बेहतर सफर हो नहीं सकता। हालांकि अभी इस ट्रेन के समय सारिणी के बारे में जानकारी नहीं है।

आईआरसीटीसी से की जा सकेगी बुकिंग

रामायण एक्सप्रेस में बुकिंग की शुरुआत हो गई है तो यदि आप भी रामायण एक्सप्रेस के जरिए राम से जुड़े तीर्थ स्थलों के दर्शन करना चाहते हैं तो 28 मार्च से पहले इसकी बुकिंग कर सकते हैं।