मोदीराज में मजबूत होती अर्थव्यवस्था, FPI ने अक्टूबर में किया 5,072 करोड़ रुपये का निवेश

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

FPI ने अक्टूबर में किया 5,072 करोड़ रुपये का निवेश

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में देश की अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत हो रही है। मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों की वजह से देश में कारोबारी माहौल अच्छा हुआ है और पूंजी बाजार में विदेशी निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ती जा रही है। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPIs) ने अक्टूबर में इंडियन कैपिटल मार्केट में 5,072करोड रुपये का इन्वेस्टमेंट किया है। पिछले महीने FPI ने डोमेस्टिक कैपिटल मार्केट (इक्विटी और डेट) में 6,557.8 करोड़ रुपये का नेट इन्वेस्ट किया था।

डिपॉजिटरी के नए आंकड़ों के मुताबिक, 1-18 अक्टूबर तक फॉरेन इन्वेस्टर्स ने इक्विटी में 4,970 करोड़ रुपये और डेट मार्केट में 102 करोड रुपये का इन्वेस्टमेंट किया। इस तरह से FPI का नेट इन्वेस्टमेंट 5,072 करोड़ रुपये हो गया।

FPI का इस महीने में इन्वेस्टमेंट बढ़ने के मामले में Samco Securities के रिसर्च हेड उमेश मेहता का कहना है कि सरकार की ओर से कॉरपोरेट टैक्स में कटौती किए जाने, PSU बैंकों में पूंजी डालना, रणनीतिक Disinvestment (विनिवेश) के जरिए डोमेस्टिक डिमांड को सुधारने के प्रयासों के चलते FPI का रुझान इन्वेस्टमेंट की ओर बढ़ा है। गौरतलब है कि सरकार ने सितंबर महीने के अंत में कॉरपोरेट टैक्स में 10 फीसद कटौती का एलान किया था। साथ ही एफपीआई टैक्स अधिभार को भी खत्म कर दिया गया। इसके अलावा सेबी ने FPI के लिए अपने ग्राहक के केवाईसी नियम आसान बना दिए हैं, इससे वे प्रतिभूति बाजार से बाहर भी लेनदेन कर सकते हैं।

वहीं कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग के तकनीकी व डेरिवेटिव विश्लेषक अरुण मंत्री ने कहा कि, इंटरनेशनल मोर्चे पर अमेरिका और चीन ट्रेड डील को लेकर पॉजिटिव मैसेज आने से इन्वेस्टरर्स की धारणा मजबूत हुई है। साथ ही अन्य जानकारों का मानना है कि FPI आने वाले समय में अब अपना इन्वेस्टमेंट बढ़ाएंगे, जो कि लंबी अवधि तक जारी रहने की उम्मीद है। इसकी वजह ये है कि भारत निवेश के लिहाज से आकर्षक देश है। उनका कहना है कि ब्रेक्सिट सौदा अगर सफल होता है तो वैश्विक निवेशकों की भावनाओं को और अधिक बल मिलेगा और भारत में निवेश को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।

मोदी सरकार में तेज अर्थव्यवस्था के संकेतों पर आइये एक नजर डालते हैं:

सबसे मूल्यवान राष्ट्रीय ब्रांड रैंकिंग में भारत 7 वें स्थान पर

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत सभी क्षेत्रों में लगातार प्रगति कर रहा है। ‘ब्रैंड फाइनेंस’ द्वारा 2019 की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, भारत विश्व रैंकिंग सूची में सातवां सबसे मूल्यवान राष्ट्रीय ब्रांड बन गया है। रिपोर्ट बताती है कि भारत ने इस वर्ष दो स्थानों की छलांग लगाई है। पिछले साल भारत इस लिस्ट में नवें स्थान पर था। एक साल में भारत की ब्रैंड वैल्यू बढ़कर 2,56,200 करोड़ डॉलर हो गई है। इस तरह भारत के ब्रैंड वैल्यू में 18 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। ‘ब्रैंड फाइनेंस’ की ओर से जारी इस लिस्ट में संयुक्त राज्य अमेरिका अपनी नंबर एक की स्थिति को बनाए रखा हुआ है।

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 437.83 अरब डॉलर के उच्च स्तर पर

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश की अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत हो रही है। मोदी सरकार की नीतियों के कारण आज भारत का विदेशी मुद्रा भंडार नए रिकॉर्ड पर पहुंच गया है।
देश का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार दूसरे सप्ताह $ 437.83 अरब के नए रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया। रिज़र्व बैंक द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, 4 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में 4.24 अरब डॉलर की वृद्धि हुई और यह 437.83 अरब डॉलर तक पहुंच गया, जो कि इसका सर्वकालिक रिकॉर्ड है।
बता दे की विदेशी मुद्रा भंडार ने आठ सितंबर 2017 को पहली बार 400 अरब डॉलर का आंकड़ा पार किया था। जबकि यूपीए शासन काल के दौरान 2014 में विदेशी मुद्रा भंडार 311 अरब डॉलर के करीब था।

सबसे तेजी से बढ़ रही है भारतीय अर्थव्यवस्था – आईएमएफ

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत की अर्थव्यवस्था लगातार मजबूत हो रही है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के अनुसार दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में भारतीय अर्थव्यवस्था सबसे तेजी से बढ़ रही है। आईएमएफ ने कहा है कि 2019 में भी भारत और चीन दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था बने रहेंगे।

चीन से ज्यादा रहेगी भारत की ग्रोथ रेट – आईएमएफ

देश की अर्थव्यवस्था 2019 में 7.5 प्रतिशत और 2020 में 7.7 प्रतिशत की दर से आगे बढ़ेगी। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने सोमवार को यह अनुमान लगाते हुए कहा कि इन दो साल के दौरान चीन की तुलना में भारतीय अर्थव्यवस्था की ग्रोथ रेट एक प्रतिशत अंक ज्यादा रहेगी। 2019 और 2020 में चीन की ग्रोथ रेट 6.2 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •