1.87 अरब डॉलर बढ़कर 413.80 अरब डॉलर हुआ विदेशी मुद्रा भंडार

RBI

देश की अर्थव्यवस्था दिन-प्रतिदिन मजबूती होती जा रही है| हालियाँ मामला विदेशी मुद्रा भंडार से जुड़ा है, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार पांच अप्रैल को समाप्त हुए सप्ताह में 1.876 अरब डॉलर की वृद्धि के साथ 413.781 अरब डॉलर पर पहुंच गया है| विदेशी मुद्रा भंडार के इस इजाफे के पीछे की वजह विदेशी मुद्रा आस्तियों में आई तेजी है| शुक्रवार को भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ो में इस बात की जानकारी दी गयी| मालूम हो कि, इससे पिछले सप्ताह भी विदेशी मुद्रा भंडार 5.237 अरब डॉलर बढ़कर 411.905 अरब डॉलर हो गया था| विदेशी मुद्रा भंडार के इस इजाफे में रिजर्व बैंक द्वारा पहली बार डॉलर-रुपया की अदला बदली कार्यक्रम ने भरपूर मदद की|

इस बाबत रिज़र्व बैंक ने कहा कि समीक्षाधीन सप्ताह में, विदेशी मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा मानी जाने वाली विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां 2.062 अरब डॉलर बढ़कर 386.116 अरब डॉलर हो गईं। विदेशी मुद्रा भंडार इससे पहले 13 अप्रैल, 2018 को समाप्त सप्ताह में 426.02 अरब डॉलर के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया था। लेकिन इसके बाद से इसमें काफी गिरावट आई। बहरहाल, अब स्थिति में फिर से बढ़ोतरी हुई है| जो इस लिहाज से शुभ संकेत है|

IMF

इस सन्दर्भ में केन्द्रीय बैंक ने भी अपने तरफ से जारी बयान में कहा कि समीक्षाधीन सप्ताह में देश का आरक्षित स्वर्ण भंडार 18.26 करोड़ डॉलर घटकर 23.225 अरब डॉलर रह गया। सप्ताह के दौरान अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के पास सुरक्षित (विशेष) विशेष निकासी अधिकार 12 लाख डॉलर घटकर 1.455 अरब डॉलर रह गया। केन्द्रीय बैंक ने कहा कि आईएमएफ में देश का आरक्षित भंडार भी 25 लाख डॉलर घटकर 2.983 अरब डॉलर रह गया।

अर्थव्यवस्था के लिहाज से यह साल देश के लिए काफी अच्छा गुजर रहा है| इससे पहले इसी साल मार्च में वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी कलेक्शन में रिकॉर्ड बढ़ोतरी दर्ज की गयी थी। मार्च में जीएसटी कलेक्शन 1.06 लाख करोड़ रुपये के रिकार्ड स्तर पर पहुंच गया था। देश में जीएसटी लागू होने के बाद यह अब तक की सबसे अधिक वसूली थी| 1,06,577 करोड़ रुपये में 20,353 करोड़ रुपये का सीजीएसटी, 27,520 करोड़ रुपये का एसजीएसटी, 50,418 करोड़ रुपये का आईजीएसटी और 8,286 करोड़ रुपये का उपकर या सेस शामिल था। मार्च, 2018 में राजस्‍व 92,167 करोड़ रुपये था और मार्च, 2019 में राजस्‍व वसूली पिछले वर्ष के समान महीने में की तुलना में 15.6 प्रतिशत अधिक पाया गया|