चौथी बार इंदौर ने देश के सभी शहरों को पछाड़ा

हमारा शहर साफ सफाई में देश में किस नबंर पर है इससे पर्दा उठ चुका है। क्योकि पीएम मोदी ने एक बार फिर ‘स्वच्छ सर्वेक्षण- 2020’ के परिणामों की घोषणा कर दी है। इस दौरन एक बार फिर पहले नबंर में इंदौर शहर रहा है। वैसे ये पहली बार नही है इंदौर लगातार चौथी बार ये खिताब पाने वाला शहर बना है। इसके अलावा दूसरे नबंर पर सूरत तो तीसरे नबंर पर नवी मुंबई रहा।

इंदौर ने फिर सबको पछाड़ा

जी हां एक बार फिर से मध्यप्रदेश के हाथ लगी है सबसे बडी उपलब्धि क्योकि इस राज्य के इंदौर शहर ने चौथी बार सबसे साफ सुधरे शहर होने का खिताब पाया है। इसके साथ स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में मध्य प्रदेश के चार शहर टॉप 20 में शामिल हुए हैं, इसमें पहले नंबर इंदौर है, सातवें नंबर पर भोपाल, 13वें पर ग्वालियर और 17वें पर जबलपुर रहा है, तो वही 100 से ज्यादा शहरों वाले राज्य में सबसे साफ राज्य छत्तीसगढ़ और 100 से कम शहरों वाले राज्य में सबसे साफ राज्य झारखंड घोषित किया गया। वही सबसे गंदा शहर का खिताब इस बार पटना को जाता है। देश के 20 स्वच्छ शहरो की लिस्ट कुछ इस प्रकार है

इंदौर, सूरत, नवी मुंबई, विजयवाड़ा, अहमदाबाद, राजकोट, भोपाल, चडीगढ़, विशाखापत्तनम, वडोदरानासिक,लखनऊ, ग्वालियर ठाणे, पुणे,आगरा, जबलपुर, नागपुर के साथ साथ गाजियाबाद और प्रयागराज है। ये शहर वो शहर है जहां साफ सफाई बेहतर हो रही है। पर अब जिन शहरों का नाम इस लिस्ट में शुमार नही है उन शहरों की जनता को संकल्प करना चाहिए कि वो आने वाले दिनो में अपने शहर को कुछ इस तरह से चमकाएगे कि वो देश का सबसे साफ सफाई वाला या यूं बोले स्वच्छ शहर का तमगा हासिल करेगा जो आज ये शहरों को मिला है।

वाराणसी बेस्ट गंगा टाउन

दूसरी तरफ पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस को इस बार गंगा नदी के करीब बसने वाला सबसे बेहतर शहर का दर्जा दिया गया है। वैसे पीएम मोदी जब से इस शहर से सांसद चुने गये है तब से ही बनारस की कायाकल्प करने में जुटे है। पीएम मोदी ने खुद घाट के किनारे की सफाई करके इसकी शुरूआत की थी जिसका असर ये है कि आज काशी के घाट चमचमा रहे है। वही काशी की गलियों से बिजली के जाल को भी हटा दिया गया है जिससे शहर की सुंदरता काफी बड़ गई है। इसी के चलते आज ये खिताब इस शहर के नाम लगा है। ऐसे में हम तो यही बोलेगे कि काशी के वासी अभी थमने वाले नही हैं, वो इसके आगे बढ़कर शहर को नबंर वन बनाकर ही दम लेगे लेंगे।

गौरतलब है कि देश के नागरिकों में स्वच्छता को लेकर भागीदारी बढ़ाने के लिए स्वच्छ सर्वेक्षण की शुरुआत की गई थी। बीते 28 दिनों में स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 को पूरा किया गया है। गुरुवार को आयोजित होने वाले ‘स्वच्छ महोत्सव’ में स्वच्छता सर्वेक्षण रिपोर्ट के अलावा स्वच्छ सर्वेक्षण इनोवेशन, स्वच्छ सर्वेक्षण सोशल मीडिया और गंगा के किनारे बसे नगरों की भी रिपोर्ट जारी की गई। वाराणसी को बेस्ट गंगा टाउन का खिताब दिया गया। कुल मिलाकर इस तरह की शुरूआत से ये जरूर हो रहा है कि शहर को खूबसूरत बनाने की कोशिश अब नागरिक स्तर से लेकर सरकारी स्तर तक हो रही है जो एक बेहतर कदम है।