दुनिया में पहली बार, दो भाई राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के पद पर एक ही समय पर आसीन

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Two brothers occupy the office of President and Prime Minister at the same time

दुनिया में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ होगा, जब किसी देश में छोटा भाई राष्ट्रपति और बड़ा भाई प्रधानमंत्री हो, लेकिन श्रीलंका में ऐसा संभव हुआ है।

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने अपने बड़े भाई महिन्दा राजपक्षे को गुरुवार को प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाई। गोटबाया के राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने के 3 दिन बाद महिन्दा ने राष्ट्रपति सचिवालय में नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। इस मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे, पूर्व राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना और अन्य नेता मौजूद थे। दुनिया की राजनीतिक इतिहास में यह पहली बार है जब एक ही परिवार के दो भाई एक ही समय में एक देश के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति होंगे। हालाँकि इससे पूर्व श्रीलंका में ही माँ और बेटी की जोड़ी एक साथ एक समय में प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति का पद संभाल चुके है, जब पूर्व राष्ट्रपति चंद्रिका कुमारतुंगा ने अपनी मां और श्रीलंका की दिग्गज महिला नेता रहीं सिरिमाओ भंडारनायके को प्रधानमंत्री नियुक्त किया था।

तब 1994 से 2005 तक श्रीलंका की राष्ट्रपति रहीं चंद्रिका कुमारतुंगा ने अपनी माँ सिरिमाओ भंडारनायके को तीसरी बार 1994 से 2000 तक श्रीलंका का प्रधानमंत्री बनाया था। इससे पहले भी सिरिमाओ भंडारनायके दो बार श्रीलंका की प्रधानमंत्री रह चुकीं थी। पहली बार वह 1960 से 1965 तक जबकि दूसरी बार 1970 से 1977 तक श्रीलंका की प्रधानमंत्री रहीं थीं।

महिन्दा राजपक्षे ने गुरुवार को ही प्रधानमंत्री पद का कामकाज संभाल लिया। वे अगस्त 2020 में प्रस्तावित आम चुनाव होने तक प्रधानमंत्री के रूप में कामकाज देखेंगे। नए प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, मैं श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेकर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं। मैं सभी श्रीलंकाई लोगों की सेवा करने के लिए तत्पर हूं क्योंकि हम भविष्य की पीढ़ियों की रक्षा के लिए और विकास के एक नए नजरिए के साथ देश को आगे लेकर जाना चाहते हैं।

राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने ट्वीट किया, मैं श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिन्दा राजपक्षे को अपनी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं देता हूं। प्रधानमंत्री के रूप में महिन्दा का यह दूसरा कार्यकाल है। महिन्दा राजपक्षे 2005 से 2015 तक श्रीलंका के राष्ट्रपति रह चुके हैं।

गौरतलब है कि दोनों भाइयों-गोटबाया और महिन्दा ने निर्णायक कार्रवाई की थी जिसके तहत देश में लिट्टे के साथ तीन दशक से जारी गृहयुद्ध का खात्मा करने में मदद मिली थी।

Modi with Sri Lankan PM Mahinda Rajapaksa | File Pic

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीलंका में महिंदा राजपक्षे के नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने पर बधाई दी है। प्रधानमंत्री ने ट्विटर पर राजपक्षे के साथ फोटो शेयर कर उन्हें बधाई दी। उन्होंने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को बधाई और शुभकामनाएं। मैं भारत-श्रीलंका संबंधों को और मजबूत करने के लिए उनके साथ मिलकर काम करने के लिए तत्पर हूं।

श्रीलंका में ऐसा माना जाता है कि दोनों भाइयों के चीन से करीबी रिश्ते हैं। आने वाले दिनों में भारत के साथ उनका रिश्ता कैसा रहता है, इसपे सबकी नज़र होगी।

दोनों भाइयों का राजनैतिक जीवन इस प्रकार रहा है:

महिंदा राजपक्षे

* 2005 से 2015 तक श्रीलंका के राष्ट्रपति।
* कोलंबो के लॉ कॉलेज से स्नातक।
* 24 साल की उम्र में सबसे युवा सांसद बने थे।
* श्रम-मत्स्य पालन मंत्री रहे।

गोटाबाया राजपक्षे

* 1971 में सेना में हुए भर्ती।
* मद्रास विश्वविद्यालय से रक्षा मामलों में पीजी डिग्री ली।
* अमेरिका में आईटी पेशेवर के रूप में भी काम किया।
* 2005 में श्रीलंका के रक्षा सचिव बने।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •