भारतीय वायुसेना को अमेरिका से मिला पहला अपाचे हेलिकॉप्टर, जानिए खासियत

भारतीय वायुसेना को अमेरिका से पहला अपाचे हेलीकॉप्टर ( Apache Helicopter ) मिल गया गया है।

apacheguardian
वायुसेना को मिला पहला अपाचे हेलीकॉप्टर

शनिवार को अमेरिका के एरिज़ोना में बोइंग ने भारतीय वायुसेना के एयर मार्शल ए एस बुटोला को हेलीकॉप्टर सौंपा। आपको बता दें कि 2018 में भारत और अमेरिकी सरकार के बीच 22 अपाचे हेलीकॉप्टर के लिये समझौते पर हस्ताक्षर हुआ था। इसके तहत अमेरिका ने भारत को अत्याधुनिक अपाचे हेलीकॉप्टर की डिलीवरी शुरू कर दी है। अपाचे हेलीकॉप्टर के भारतीय वायुसेना में शामिल होने के बाद पाकिस्तान समेत अन्य सीमावर्ती इलाकों में निगरानी मजबूत हो जाएगी। साथ ही आपात स्थिति में यह हेलीकॉप्टर सेना की त्वरित मदद भी कर पाएंगे।

22 अपाचे हेलीकॉप्टर खरीदने की डील 2018 में हुई थी

Apache_Airship

अमेरिका और भारत के बीच जुलाई 2018 में 22 अपाचे और 15 चिनूक हेलीकॉप्टर खरीदने के लिए डील हुई थी। यह डील तीन अरब डॉलर यानी करीब 21 हजार करोड़ रुपए में हुई थी। अमेरिका को इन सभी हेलीकॉप्टर्स की डिलीवरी तीन से चार साल के भीतर करनी थी। अब भारतीय वायुसेना को पहला अपाचे हेलीकॉप्टर मिल गया है। जबकि चिनूक हेलीकॉप्टर की डिलीवरी पहले ही शुरू हो चुकी है। फिलहाल अपाचे हेलीकॉप्टर को गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस में रखा जायेगा। इस हेलीकॉप्टर से भारतीय सेना की ताकत कई गुना तक बढ़ जाएगी।

अपाचे की खासियत

Apache_Helicopter_Deal_From_America

भारतीय सेना में शामिल होने वाला हेलीकॉप्टर अपाचे अनूठी और अपार युद्धक क्षमताओं से लैस है। अपाचे हेलीकॉप्टर भारतीय सेना की रक्षात्मक क्षमता तो बढ़ाएगा ही इससे सेना को जमीन पर मौजूद खतरों से लड़ने में भी मदद मिलेगी। साथ ही साथ अपाचे भारतीय सेना के आधुनिकीकरण को भी रफ्तार देगा। अमेरिका का अपाचे एक बेहद एडवांस्ड मल्टी रोल कॉम्बेट हेलीकॉप्टर है। यह हर मौसम के साथ रात में भी काम कर सकता है। अपाचे हेलीकॉप्टर 60 सेकंड में 128 टारगेट भेद सकता है। इस हेलीकॉप्टर में उन्नत सेंसर के अलावा मिसाइलों से अदृश्य होने की भी झमता है। अफगानिस्तान और ईराक में अमेरिका सेना ने अपाचे हेलीकॉप्टर का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया था।

• अपाचे हेलीकॉप्टर की अधिकतम रफ्तार 280 किलोमीटर प्रति घंटा है।
• इस हेलीकॉप्टर को रडार से पकड़ना बेहद मुश्किल है।
• इसका सबसे खतरनाक हथियार है, 16 एंटी टैंक मिसाइल छोड़ने की क्षमता।
• अपाचे हेलीकॉप्टर के नीचे लगी राइफल में एक बार में 30 एमएम की 1,200 गोलियां भरी जा सकती हैं।
• इस हेलीकॉप्टर की फ्लाइंग रेंज करीब 550 किलोमीटर है।
• अपाचे हेलीकॉप्टर एक बार में पौने तीन घंटे तक उड़ सकता है।
• नाइट विजन सिस्टम की मदद से रात में भी दुश्मनों की टोह लेने, हवा से जमीन पर मार करने वाले रॉकेट दागने और मिसाइल आदि ढोने में सक्षम।
• अपाचे दुनिया के उन चुनिंदा हेलीकॉप्टर्स में शामिल है जो किसी भी मौसम या किसी भी स्थिति में दुश्मन पर हमला कर सकता है।

आपको बता दे की अमेरिका ने इस हेलीकॉप्टर का भरपूर इस्तेमाल इराक और अफगानिस्तान के खिलाफ युद्ध में किया और इजरायल भी अपाचे का इस्तेमाल गाजा में अपने दुश्मनों पर कहर ढाने के लिए करता रहा है। अपाचे अटैक हेलिकॉप्टगर ‘लादेन किलर’ के नाम से भी जाना जाता है।