फेसबुक ने खरीदी जियो मे 10 प्रतिशत हिस्सेदारी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

फेसबुक ने जियो प्लेटफॉर्म्स के साथ डील कर ली है। इसके तहत उसने फैसला किया है कि वह जियो प्लेटफॉर्म की 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीदते हुए 43,574 करोड़ रुपये का निवेश करेगा। इस डील से ना सिर्फ दोनों कंपनियों का बिजनेस बढ़ेगा, बल्कि रोजगार के भी बहुत सारे मौके पैदा होंगे। 

भारतीय टेक्नाेलॉजी सेक्टर में यह सबसे बड़ा एफडीआई है। दोनों कंपनियों के बीच इस डील के बाद जियो का वैल्यूएशन 4.62 लाख करोड़ रुपए का हो जाएगा। नियामक की मंजूरी मिलने के बाद फेसबुक, जियो में सबसे बड़ी माइनॉरिटी शेयरहोल्डर बन जाएगी। इसी बीच फेसबुक के मार्क जुकरबर्ग ने इस डील पर अपनी बात कहते हुए एक फेसबुक पोस्ट लिखी है।

क्या लिखा पोस्ट में

इस समय दुनिया में बहुत कुछ चल रहा है, लेकिन मैं भारत में हमारे काम को लेकर एक अहम बात साझा करना चाहता हूं। फेसबुक अब जियो प्लेफॉर्म्स के साथ जुड़ने जा रहा है। हम एक बड़ा निवेश करने जा रहे हैं और उससे भी बड़ी बात ये है कि हम लोग एक साथ मिलकर कुछ बड़े प्रोजेक्ट्स पर काम करने वाले हैं, जो भारत के लोगों के लिए रोजगार के मौके पैदा करेगा।

फेसबुक की सब्सिडियरी वॉट्सऐप के भी भारत में 40 करोड़ यूजर 

भारत में करीब 100 करोड़ मोबाइल यूजर हैं। फेसबुक के लिए भी भारत सबसे बड़ा बाजार है। फेसबुक की सब्सिडियरी वॉट्सऐप के भी भारत में 40 करोड़ यूजर हैं। रिलायंस जियो के देश में 38.8 करोड़ यूजर हैं। डील के बाद भी रिलायंस जियो इन्फोकॉम जियो फ्लेटफॉर्म की पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई बनी रहेगी। 

कंपनी भारत में काम करने के लिए प्रतिबद्ध: फेसबुक

फेसबुक के चीफ रेवन्यू ऑफीसर डेविड फिशर और भारत में कंपनी के वीपी और एमडी अजीत मोहन ने एक साझा ब्लॉग में कहा कि यह निवेश कंपनी की भारत के प्रति प्रतिबद्धता को दिखाता है। 4 साल से कम समय में जियो के पास 38.8 करोड़ यूजर्स हैं। यह नई एंटरप्राइज की इनोवेशन को प्रेरित तो करता ही है साथ में लोगों को नए तरीके से जुड़ने में मदद करता है। कंपनी जियो के साथ मिलकर भारत में और लोगों को जोड़ना चाहती है।

भारत को ‘डिजिटल दुनिया’ के शिखर तक पहुंचा का सपना होगा सच: अंबानी

फेसबुक के साथ पार्टनरशिप पर रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर मुकेश अंबानी ने कहा, “2016 में जब हमने जियो की शुरुआत की थी तो हमने एक सपना देखा था। ये सपना था भारत के ‘डिजिटल सर्वोदय’ का। ये सपना था भारत में एक ऐसी समावेशी डिजिटल क्रांति का जिससे हर भारतीय की जिंदगी बेहतर हो सके। सपना, एक ऐसी क्रांति का जो उसे ‘डिजिटल दुनिया’ के शिखर तक पहुंचा सके। इसलिए भारत के डिजिटल इकोसिस्टम को विकसित करने और बदलने के लिए हम अपने दीर्घकालिक साझेदार के रूप में फेसबुक का स्वागत करते हैं। जियो और फेसबुक के बीच तालमेल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने में मदद करेगा।”

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •