आपदा के इस दौर में भी नहीं रुक रहा काम जल जीवन मिशन के तहत पुडुचेरी के हर गांव में पहुंचा नल से जल

देश में कोरोना की माहामारी के चलते लॉकडाउन जरूर लगा है लेकिन इस बीच सरकारी योजना के कामो की स्पीड धीरी नही पड़ रही है जिसका असर है कि जल जीवन मिशन के चलते पुडुचेरी के हर गांव में अब नल से जल की आपूर्ति की जा रही है। यहां गौर करने वाली बात ये है कि आजादी के 75 साल के बाद मोदी सरकार ने इसका बीड़ा उटाया और महज 1.5 साल के भीतर इसमें सफलता पाई है।

पुडुचेरी के ग्रामीण क्षेत्रों में मिले 100 फीसदी नल कनेक्शन

जल शक्ति मंत्रालय कि माने तो पुडुचेरी ने जल जीवन मिशन के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में 100 प्रतिशत पाइप कनेक्शन का लक्ष्य हासिल कर लिया है। नल के पानी की आपूर्ति देकर इसे मील का पत्थर साबित कर लिया है। पुडुचेरी के सभी 1.16 लाख ग्रामीण घरों में नल कनेक्शन से जल की आपूर्ति दी गई है। इसके साथ, केंद्र शासित प्रदेश गोवा, तेलंगाना और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के बाद चौथा राज्य या केंद्र शासित प्रदेश बन गया, जो 2024 तक केंद्र के प्रमुख कार्यक्रम के तहत प्रत्येक ग्रामीण घर को सुनिश्चित नल की आपूर्ति प्रदान करेगा। वही पंजाब में 34.73 लाख में से 26.31 लाख घरों में नल की आपूर्ति है जो करीब 75 फीसदी के बराबर है और 2022 तक सभी ग्रामीण परिवारों के 100 प्रतिशत कवरेज की योजना है। जो अपने तय समय पर पूरा होने के लिये हर दिन आगे बढ़ रही है। सरकार के इस मिसन के जरिये लद्दाख और भूटान सीमा के अतिं गांव तक भी जल पहुंचा दिया गया है जो ये बताता है कि मोदी सरकार जो संकल्प करती है उसे पूरा जरूर करती है।

जल संचय के लिए भी लोगों को जागरूक करता विभाग

वही दूसरी तरफ मोदी सरकार का जल मंत्रालय दूसरे राज्यो में जल संचय का प्रबंधन करने भी लगी हुई है। इसके लिये बरसात के पहले ही पोखरो की खोचाई कर दी गई है तो छोटी छोटी नदियों में गंदगी को भी दूर करने का काम चल रहा है। यहां गौर करने वाली बात ये है कि सरकार ये सब काम कोरोना माहामारी के बीच करने में लगी हुई है जिससे ये साफ पता चलता है कि देश का विकास ना रुके इशके लिये सरकार कितनी सजग है वैसे भी ये हमारा ही दुर्भाग्य है जब 75 साल बाद कोई सरकार मूलभूत सुविधा देने की सोच रही है तब कोरोना के चलते स्पीड काम की मंद हो रही है लेकिन ये सरकार का संकल्प ही है कि वो ना कोरोना से टूट रही है और ना ही विकास काम रोक रही है।

तभी तो देस कोरोना के इस आपदा के दौर में भी नये इतिहास बना रहा है जो नये भारत की बुलंद तस्वीर को दर्शाता है।