आजादी के 75 साल बाद भी कई जिले पीछे रह गए थे लेकिन अब बदल रही सूरत: मोदी

देश में तेजी से विकास हो इसके लिये पीएम मोदी हर वक्त काम करते रहते हैं और ये भी जानते रहते हैं देश में विकास के कामों की स्पीड़ कैसी है। किसी को लेकर पीएम मोदी ने आज देश के कई जिलों के कलेक्टर्स से बात करी। पीएम मोदी ने जिलाधिकारियों को संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल का सुझाव दिया और कहा कि एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट में जो काम हुआ है, वो विश्व की बड़ी-बड़ी यूनिवर्सिटीज के लिए रिसर्च का विषय है। इतना ही नहीं उन्होने बोला कि आज सारे संसाधन वही हैं, सरकारी मशीनरी वही है और अधिकारी भी वही हैं, लेकिन रिजल्ट अलग है।

डिजिटल इंडिया से आई मौन क्रांति

इस दौरान डिजिटल इंडिया मिशन की सराहना करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश डिजिटल इंडिया के रूप में देश एक मौन क्रांति का साक्षी बन रहा है। इसमें कोई भी जिला पीछे नहीं छूटे और डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर हर गाँव तक पहुँचे, सेवाओं और सुविधाओं की डोर स्टेप डिलीवरी का जरिया बने ये आवश्यक है। पीएम मोदी के मुताबिक, इसके लिए अलग-अलग मंत्रालयों, अलग-अलग विभागों ने 142 जिलों की एक लिस्ट तैयार की है, जहाँ आकांक्षी जिलों की ही तरह कलेक्टिव एप्रोच के साथ काम करना है। पीएम मोदी ने कहा कि बीते 4 साल में देश के लगभग हर आकांक्षी जिले में 4-5 गुना अधिक जन धन के अकाउंट खोले गए। हर परिवार को बिजली मिली, इससे गरीब के जीवन में भी ऊर्जा का संचार हुआ है। इसके अलावा करीब-करीब हर परिवार को शौचालय की सुविधा दी गई। आकांक्षी जिलों के लोगों के अंदर आगे बढ़ने की तड़प होती है और वो लगातार बढ़ती जा रही है जिससे ये पता चलता है कि देश सही दिशा की तरफ बढ़ रहा है।

75 साल बाद भी कई ज‍िले पीछे रह गए:पीएम

पीएम मोदी ने इस दौरान बोला कि आजादी के बाद जितनी तेजी से विकास का काम होना चाहिये वो जमीन में नहीं दिखा जिसके चलते एक तरफ बजट बढ़ता रहा, योजनाएं बनती रहीं, आंकड़ों में आर्थिक विकास भी होता रहा, लेकिन फिर भी आजादी के 75 साल बाद भी देश में कई जिले पीछे ही रह गए। समय के साथ इन जिलों के साथ पिछड़े जिलों का टैग लगा दिया गया। जो जिले पहले कभी तेज प्रगति करने वाले माने जाते थे, आज कई पैमानों में ये आकांक्षी जिले भी अच्छा काम करके दिखा रहे हैं। पीएम मोदी ने यहां सिविल सर्विसेस से जुड़े साथियों से कहा, ‘मैं एक और बात याद करने को कहूंगा। आप वो दिन जरूर याद करें जब आपका इस सर्विस में पहला दिन था। आप देश के लिए कितना कुछ करना चाहते थे, कितना जोश से भरे हुए थे, कितने सेवा भाव से भरे हुए थे। आज उसी जज्बे के साथ आपको फिर आगे बढ़ना है जिससे देश का विकास तेजी से हो।

वैसे जिस तरह से आज काम हो रहा है उससे ‘टॉप टू बॉटम’ औऱ ‘बॉटम टू टॉप’ तक सरकारी योजना आम लोगों तक पहुंच रही है जिसके चलते प्रशासन और जनता के बीच प्रत्यक्ष, परोक्ष और भावनात्मक जुड़ाव का एक माहौल साफ दिखाई दे रहा है। लेकिन अभी हमें और आगे तक जाना है जिससे देश के हर जिले में परिवर्तन का नया दौर देखा जा सके।