कोरोना जैसे मुद्दे पर बैठक छोड़ सियासत पर जोर

देश में एक बार फिर से कोरोना पैर पसार रहा है लेकिन ये महामारी फिर से देश के लोगों की जान माल को नुकसान न पहुंचा पाये इसके लिये मोदी सरकार अभी से चुस्त हो गई है जिसके चलते पीएम ने राज्यों के सीएम के साथ बैठक की। लेकिन इस बैठक को लेकर भी कुछ लोगों ने सियासत की और बैठक में शामिल नहीं हुई खासकर बंगाल की सीएम ममता दीदी तो इतनी अहम बैठक छोड़ रैली करती हुए नजर आई जो ये बताता है कि वो बंगाल की जनता को लेकर कितनी उदासीन है।

West Bengal Assembly Election: CM Mamata Banerjee address public meeting in  Purulia | West Bengal Election 2021: पुरुलिया में Mamata Banerjee का इमोशनल  कार्ड, बोलीं- मेरे दर्द से ज्यादा भयंकर जनता का

कोरोना बैठक से ममता दीदी रही नदारद

ये बात सच है कि बंगाल में इस वक्त चुनाव सरगर्मी काफी तेज है जनता के बीच नेता ज्यादा से ज्यादा अपनी बात पहुंचाना चाहते है लोकतंत्र में लोगों तक अपनी बात पहुंचाने में भी कोई बुराई नही है लेकिन इस बीच जनता की सेवा भूल जाना कही न कही गलत काम है जनता के प्रति उदासीन हो जाना गलत। खासकर कोरोना ऐसे मामले को लेकर तो बिलकुल नहीं लेकिन ममता दीदी इसके इतर बंगाल चुनाव के चलते अपना प्रचार करने में लगी है जो ये दर्शाता है कि दीदी को सत्ता के अलावा कुछ नही भाता उन्हे तो सत्ता हासिल करनी है जहां वोट मिलने के चांस है वहां ही दीदी दिखेगी। तभी तो रेलवे की इमारत में आग लगने पर दीदी पहुंच जाती है लेकिन बंगाल में कोरोना न फैले इसके लिये पीएम की कोरोना बैठक में शामिल नही होगी। क्योकि चुनावी सीजन में उन्हे फुटेज नहीं मिलेगी, बस इसी लिये तो दीदी ऐसा खास बैठक से गायब दिखी।

राज्यों के सीएम को मोदी ने किया सावधान

कोरोना को लेकर हुई पीएम मोदी की सीएम संग बैठक में पीएम मोदी ने सभी राज्य के सीएम की बाते सुनने के बाद अपने विचार रखे। पीएम मोदी ने सभी को सावधान रहने को बोला है पीएम ने इस बाबत कहा कि कोरोना इस बार सेफ जोन में भी घुसा कोरोना, 70 जिलों में 150% बढ़ोतरी हुई है जो चिंता का कारण बन रही है उन्होने राज्यों से अपील करते हुए टेस्टिंग पर जोर देने को बोला तो देशवासियों से भी कोरोना को लेकर सावधानी बनाये रखने को कहा। पीएम मोदी ने बोला कि भारत पिछले साल कोरोना को हराने में सफल रहा है। ये भी ठीक है कि देश में कोरोना से ठीक होने वालों का ऑकड़ा 96 फीसदी है लेकिन इसके बावजूद भी आत्मविश्वास के चलते सावधानी को नहीं छोड़ना चाहिये जिससे कोरोना को हराया जा सके।

इससे ये बात तो साफ हो चुकी है कि पीएम मोदी कोरोना को लेकर कितने सजग है यही सजगता के चलते ही तो पीएम मोदी के साथ जनता खड़ी है क्योकि उसे पूरा ऐतबार है कि मोदी है तो मुमकिन है।