आठ अपाचे हेलीकॉप्टर कल मंगलवार को वायुसेना में शामिल होंगे, अगला नंबर राफेल विमानों का

IndiaFirst अपने पाठकों को भारतीय सेना, उसके पराक्रम और उसकी शक्ति से जुड़ी हर खबर बताने को प्रतिबद्ध है| हमारी कोशिश होती है की हम आपको इस क्षेत्र में हो रही हर गतिविधि से अवगत रखें| इसी क्रम में आज हम बताने जा रहे हैं कि कल मंगलवार से कैसे वायुसेना की शक्ति में इजाफ़ा होने जा रहा है|

Eight Apache helicopters will join the Air Force tomorrowआठ अपाचे हेलीकॉप्टर कल मंगलवार को वायुसेना में शामिल होंगे

जी हाँ, अमेरिका निर्मित अत्याधुनिक अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की अगली खेप कल भारतीय वायुसेना में शामिल होने जा रही है| इन आठ अपाचे एएच-64ई (Boeing AH-64 Apache) लड़ाकू हेलीकॉप्टरों को कल तीन सितम्बर को पठानकोट एयरबेस पर एक विशेष समारोह में भारतीय वायुसेना में शामिल किया जायेगा| यह एयरबेस पाकिस्तानी सीमा के करीब स्थित है| इसके बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए वायुसेना के अधिकारियों ने बताया कि इस विशेष पल के लिए आयोजित होने वाले समारोह में एयर चीफ मार्शल बी. एस. धनोआ मुख्य अतिथि होंगे|

उल्लेखनीय हैं कि अपाचे एएच-64ई दुनिया के अत्याधुनिक बहु-भूमिका वाले लड़ाकू हेलीकॉप्टर है जिसका निर्माण अमेरिकी विमानन कंपनी बोईंग द्वारा किया जाता है और इसका इस्तेमाल अमेरिकी समेत कई विकसित देश कर रहे हैं|

2015 में भारतीय वायुसेना ने बोईंग से किया था करार

भारतीय वायुसेना ने इन अपाचे हेलीकॉप्टर के लिए अमेरिकी सरकार और बोइंग के साथ सितम्बर 2015 में करार किया था| इस करार के तहत बोइंग ने 27 जुलाई को 22 हेलीकॉप्टर में से पहले चार हेलीकॉप्टर की डिलीवरी भारतीय वायुसेना को कर दी थी| करीब चार वर्षों बाद ‘हिंडन एयर बेस’ पर भारतीय वायुसेना को अपाचे हेलीकॉप्टरों के पहले बैच की डिलीवरी की गई थी|

यूनाइटेड स्टेट ने भारतीय वायुसेना को सौंपे चार अपाचे लड़ाकू हेलीकाप्टर, अगले हफ्ते और चार अपाचे लड़ाकू हेलीकाप्टर सौंपने की तैयारी

अपाचे हेलीकाप्टर एक बहुआयामी उपयोग में आने वाला लड़ाकू हेलिकॉप्टर है| अब तक पूरी दुनिया में करीब 2100 अपाचे हेलीकाप्टर बोईंग द्वारा बेचे जा चुके हैं| यह हेलीकाप्टर दुश्मबन की सीमा में घुसकर तेजी से हमला करने में सक्षम है, जिसके वायुसेना में शामिल होने से वायुसेना की सीमा पर मारक क्षमता कई गुना बढ़ गयी है|

जानिए अपाचे हेलिकॉप्टर की खासियत