2019 का आर्थिक सर्वे संसद में पेश – जीडीपी 7% रहने का अनुमान

Economic Survey of 2019

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में साल 2019 का आर्थिक सर्वे पेश किया| बजट से पहले का ये आर्थिक सर्वे देश की वर्तमान आर्थिक स्थिति बयान करता है, साथ ही अगले वित्त वर्ष की चुनैतियों को भी देश के सामने रखता है| इसके बाद कल संसद में पूर्ण बजट पेश किया जायेगा|

आर्थिक सर्वे के मुताबिक वित्त वर्ष 2019-20 में आर्थिक वृद्धि दर 7% रहने की सम्भावना है, 2018-19 में ये 6.8 था जो पिछले पांच साल का न्यूनतम स्तर है| दुनिया की पांच सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में शामिल होने के प्रधानमंत्री मोदी के विज़न को पूरा करने के लिए 2024 तक 8% की आर्थिक वृद्धि दर हासिल करनी होगी|

आर्थिक सर्वे की मुख्य बातें इस प्रकार है:

  • विदेशी मुद्रा भंडार 2018-19 में 412.9 अरब डालर रहने का अनुमान
  • वित्त वर्ष 2018-19 में आयात 15.4 प्रतिशत जबकि निर्यात में 12.5 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान
  • आर्थिक समीक्षा में 2018-19 में खाद्यान्न उत्पादन 28.34 करोड़ टन रहने का अनुमान
  • कृषि, वानिकी और मत्स्यन में 2.9 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान
  • राजकोषीय घाटा वित्त वर्ष 2019 में 5.8 फीसदी रहा जबकि यह वित्त वर्ष 2018 में 6.4 फीसदी था

उल्लेखनीय है कि साल 2019 का ये आर्थिक सर्वे भारत के मुख्य आर्थिक सलाहकार के सुब्रमण्यम और उनकी टीम द्वारा तैयार किया गया था|