आपदा के वक्त छोटे छोटे जुगाड़ से देशवासी बचा रहे दूसरों की जान

कहते है आसमान में फरिश्ते रहते है लेकिन उन्हे किसी ने देखा नहीं है पर कोरोना आपदा के वक्त धरती पर रहने वाले लोग ही आज फरिश्ते से कम नहीं नजर आ रहे है जो दिन रात सिर्फ लोगो की मदद करके कोरोना को हराना चाहते है।

Coronavirus: Home tests not available 'next week' - BBC News

 

एंबुलेंस की कमी देख खुद के ऑटो को ही बना दिया एंबुलेस दे रहे है मरीजो को फ्री सेवा

मध्य प्रदेश के भोपाल में एक ऑटो चालक जावेद ने अपनी ऑटो को एंबुलेंस में तब्दील कर दिया और मुफ्त में लोगों की सेवा कर रहे हैं। उनके इस ऑटो ऐंबुलेंस में ऑक्सीजन सिलेंडर, ऑक्सीमीटर से लेकर पीपीई किट तक की व्यवस्था है। जावेद का कहना है कि उन्होंने खबरों में देखा कि कैसे एंबुलेंस लोगों को नहीं मिल रही। कोई ठेले पर लोगों को ले जा रहा है तो कोई किसी और तरीके से मुझे कुछ जानने वाले लोगों ने एक ऑक्सी मीटर दिया और एक शख्स ने खाली oxygen सिलेंडर दिया मैं रात के दो बजे भी नि:शुल्क लोगों कि सेवा कर रहा हूं। इस आपदा में मुझसे जितना बन सकता है मैं कर रहा हूं और चाहता हूं कि इस मुश्किल वक्त में और ऑटो चालक भी इस तरह से लोगों की मदद करे।

बाइक को एंबुलेस में किया तब्दील

कोरोना काल में मध्यप्रदेश के धार के एक युवा इंजीनियर ने कमाल कर दिया है। आपदा को अवसर में बदलते हुए इंजीनियर अजीज खान ने एक ऐसी बाइक एंबुलेंस तैयार की है, जो महामारी के इस दौर में लोगों के लिए मददगार साबित होगी। अब वह जल्द ही जिला अस्पताल को यह बाइक एंबुलेंस फ्री में भेंट करेंगे ताकि जरूरतमंदों को समय पर इलाज मिल सके और उनकी जान बच सके।अजीज ने महज दो दिनों में इस बाइक एंबुलेंस को तैयार किया है। इसकी खास बात ये है कि किसी भी मरीज को ऑक्सीजन लगाकर इसे एक जगह से दूसरी जगल ले जाया जा सकता है। मरीज के साथ एक दूसरे शख्स को भी बाइक एंबुलेंस में आसानी से बिठाया जा सकता है, जो मरीज की देखभाल कर सके। इसमें दवाइयो से लेकर 25 किलो का ऑक्सीजन सिलेंडर लगा है। इसे ले जाने वालों को ऑक्सीजन सिलेंडर में फिर से गैस भरवाना होती है। इससे अब तक आठ लोगों को नई जिंदगी मिली है।

इस मुश्किल घड़ी में लोग एक दूसरे का सहारा बनकर एक मिसाल कायम करने में जुटे है आलम ये है कि हर देशवासी दूसरे कि मदद के लिये आगे आ रहा है। कुछ लोग खाना खिला रहे है तो कुछ लोगो ने ऑक्सीजन लंगर शुरू किये है जिससे लोगो की जान बच रही है। जिससे ये साफ पता चलता है कि फरिश्ते जमीन पर ही होते है। ऐसे लोगो का दिल से आभार आज समूचा देश कर रहा है।