राष्ट्रगान के दौरान ड्यूटी पर तैनात महिला सुरक्षाकर्मी गिरी, मंच से उतरकर राष्ट्रपति और वित्तमंत्री ने जाना हालचाल

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

महिला पुलिसकर्मी का हालचाल जानते हुए राष्ट्रपति कोविंद, वित्त मंत्री और वित्त राज्यमंत्री

मंगलवार को राष्ट्रीय कॉर्पोरेट सामाजकि दायित्व पुरस्कार कार्यक्रम का राजधानी दिल्ली में आयोजन किया गया। इस दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंगलवार को एक कार्यक्रम के दौरान मानवीयता का परिचय देते हुए मंच से उतर एक महिला पुलिसकर्मी से मुलाकात की। यह महिला पुलिसकर्मी विज्ञान भवन में राष्ट्रीय सीएसआर पुरस्कार समारोह के दौरान मंच के आगे खड़ी थीं। तभी राष्ट्रगान बजने के दौरान पैर मुड़ जाने के कारण फिसल कर गिर गई थी।

ऐसे में राष्ट्र गान खत्म होते ही राष्ट्रपति कोविंद, केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण और अनुराग सिंह ठाकुर से कुछ बात करते दिखे और फिर सुरक्षाकर्मियों के साथ मंच से नीचे आए। इसके बाद उन्होंने महिला पुलिसकर्मी से बातचीत की और ठाकुर ने उन्हें पानी की बोतल दी। राष्ट्रपति कोविंद और निर्मला सीतारमण सुरक्षाकर्मी का हालचाल जानने के बाद मंच पर लौट गए।

कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कंपनियों को सुझाव दिया है कि वे कॉरपोरेट सामाजिक दायित्य (सीएसआर) के तहत अनाथ और दिव्यांग लोगों के कल्याण के लिए अधिक राशि खर्च करें। राष्ट्रपति ने कहा कि 2014-15 से कंपिनयां हर साल सीएसआर पर 10,000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च करती हैं।

बता दे की सीएसआर पुरस्कार की शुरुआत केंद्रीय कॉर्पोरेट मंत्रालय की ओर से की गई है। कंपनियों के ब्योरे और सीएसआर विशेषज्ञों के स्वतंत्र आकलन के आधार पर विभिन्न श्रेणियों में 19 विजेताओं को पुरस्कृत किया गया।

क्या है सीएसआर परियोजना?

कंपनी एक्ट 2013 के तहत, सीएसआर प्रावधान एक अप्रैल, 2014 से लागू हुए हैं। इस कानून के तहत लाभ प्राप्त करने वाली कुछ विशेष श्रेणी की कंपनियों को एक वित्तीय वर्ष में तीन साल के कुल लाभ औसत की 2 प्रतिशत राशि कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी में खर्च करनी होती है। सीएसआर के तहत कंपनियों को पिछड़े और नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पेयजल, स्वच्छता, महिला एवं बाल विकास जैसे कार्यों के लिए सीएसआर परियोजना चलानी होती हैं।

अब से राष्ट्रीय सीएसआर पुरस्कार हर साल दो अक्टूबर को दिए जाएंगे।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •