ड्रोन का कमाल, 18 मिनट में 32 किलोमीटर दूर पहुँचाया ब्लड सैंपल

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

गुरूवार को एक ड्रोन के जरिये उत्तराखंड के टिहरी जिले के एक दुर्गम स्थान से 32 किलोमीटर दूर खून के नमूने सफलतापूर्वक पहुंचाए गए| यह अपने किस्म का एक अनूठा प्रयोग है और इसे कर दिखाया है कानपुर के आईआईटी के छात्रों द्वारा शुरू किये गए एक स्टार्टअप ने|

गुरूवार को पायलट प्रोजेक्ट के तहत ड्रोन से ब्लड सैंपल भेजने का डेमो दिखाया, जिसमें करीब 32 किमी दूर पीएचसी नंदप्रयाग से ड्रोन ब्लड सैंपल लेकर महज 18 मिनट में जिला अस्पताल पहुंचा। इस प्रयोग के सफल होने से उत्तराखंड के दुर्गम इलाकों में इस तरह की सुविधा आसानी से पहुंचायी जा सकेंगी। इस तरह के नए और सफल आयाम देश की मेडिकल सुविधा को देश के कोने-कोने में पहुंचा सकेंगे और मरीजों का समय पर समुचित इलाज संभव हो सकेगा|

ड्रोन ने नंदगांव पीएचसी से बुराड़ी हॉस्पिटल तक की 36 किलोमीटर की दूरी महज 18 मिनट में पूरी की, जबकि सड़क के जरिए यहां तक पहुंचने में 70 से 100 मिनट तक लगते हैं। ड्रोन में ब्‍लड सैंपल के अलावा एक कूलिंग किट भी थी ताकि सैंपल खराब न हो जाएं।

इस तरह के एक ड्रोन की कीमत लगभग 10-12 लाख रूपये है| लगभग 400 ग्राम तक का भार उठाने में सक्षम यह ड्रोन इलेक्ट्रिक पॉवर से संचालित है और कहीं भी आसानी से टेक ऑफ और लैंड कर सकता है| इसको संचालित करने के लिए 2 लोगो की जरुरत है| इस तरह के प्रयोग और तकनीक हमारे देश में स्वस्थ्य सेवाओं को जन-जन तक पहुँचाने में मददगार हो सकते है|


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •