बीजेपी को है देश की चिंता क्यो जानिये

BJP_flying_flag

आजादी के बाद इस देश ने कई चुनाव के दौर देखे कई बड़े नारे सुने है और तमाम पार्टियों के घोषणा पत्रो को भी जाँचा और परखा है लेकिन ज्यादातर इन घोषणा पत्रों मे जो वायदे होते है वो सिर्फ वायदे ही होते है। जमीनी हकीकत मे वो पूरे होते हुए नही दिखाई देते है। क्योकि पार्टिया सत्ता मे आने के लिये कुछ भी वायदे कर देती है इस बार भी कुछ ऐसे ही वायदे लेकर पार्टिया आई है। लेकिन अगर बीजेपी पार्टी का घोषणा पत्र देखे जिसे वो संकल्प पत्र कह रही है वो जरूर थोड़ा अलग दिखता है। खासकर जिस तरह से पार्टी ने जल संकट को कम करने की बात कही है।

BJP sankal-patra

बीजेपी ने अपने संकल्प पत्र मे इस बार सबका ध्यान खीचा है और वो इस लिये क्योकि इस बार पार्टी ने देश को जल संकट से उबारने की बात कही है। वैसे ये बात उस वक्त कही गई है जब समूची दुनिया पानी की किल्लत से जूझ रही है और ज्यादातर पर्यावरणविद इसे बहुत बड़ा सकंट मान रहे है। ऐसे मे मोदी एंड कंपनी ने इस ओर घ्यान खीचा है, जो तारीफ के काबिल है।

बीजेपी ने संकल्प पत्र मे साफ किया है कि वो पानी की किल्लत को दूर करने के लिये जल मंत्रालय बनायेगे जिसके तहत देश मे पानी के संकट को दूर करने के लिये उपायो को खोजा जायेगा। खुद मोदी ने इस बाबत कहा कि अटल जी ने इस बाबत कई दशक पहले ही सरकारो को आगह करने की बात कही थी लेकिन उस पर ज्यादा कुछ नही हुआ. हालाकि हमारी सरकार ने देश की नदियों को स्वच्छ बनाने और नई नगरों के जरियो सूखा ग्रस्त इलाकों तक पानी पहुंचाने का काम किया है। लेकिन देश को पूरी तरह से जल सकंट से मुक्त करने के लिये कई बड़े कदम उठाने होगे और उन कदमो को हमने अपने संकल्प पत्र मे बताया है।

अगर बिना सियासत के इस बात को देखा जाये तो ये देश के इतिहास मे पहली बार हुआ है जब किसी पार्टी ने जनता के सामने वायदे की जगह किसी संकट का जिक्र किया है और उसके फ्रिक मे कदम उटाने की बात कही है| ऐसे मे अगर इसी आजादी के बाद का सबसे बेहतर घोषणा पत्र कहे तो गलत नही होगा