अफवाहों पर गौर मत करिये, केंद्र ने डाटा जारी करके बताया किस राज्य के पास कितनी वैक्सीन 

कहते है साँच को आँच नहीं होता तभी तो विपक्ष कोरोना वैक्सीन की कमी का झूठा आरोप जो लगा रहा था उसकी पोल केंद्र सराकर ने खोलकर रख दी है। जिससे साफ पता चलता है कि विपक्ष कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर ना नुकुर सिर्फ सियासत के चलते कर रही है। केंद्र सरकार की माने तो राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 (Covid-19) रोधी एक करोड़ से अधिक टीके उपलब्ध हैं

दूध का दूध और पानी का पानी करते हुए स्वास्थ मंत्रलाय ने जारी ऑकड़ो में बताया कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 रोधी 1,06,19,892 और टीके उपलब्ध हैं। वही आने वाले तीन दिनो में ‘राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को 57 लाख से अधिक और टीके दिये जायेंगे। इतना ही किस राज्य के पास कितनी वैक्सीन है इसका भी ऑकड़ा मंत्रालय ने जारी किया जिसके अनुसार महाराष्ट्र में टीके की कोई कमी नही है। जारी ऑकड़ो पर नजर डाले तो महाराष्ट्र को 28 अप्रैल सुबह आठ बजे तक कोविड-19 रोधी टीकों की 1,58,62,470 खुराक दी गई। जिसमें1,53,56,151 टीकों की खपत हुई है जिसके बाद अभी भी राज्य के पास 5,06,319 टीके उपलब्ध हैं। वहीं महाराष्ट्र को अगले तीन दिनों में 5,00,000 और टीके भेजे जाएंगे। इसी तरह राजस्थान को अब तक 1,36,12,360 टीके दिए गए हैं। राज्य के पास अब 3,92,002 टीके उपलब्ध हैं और 2,00,000 टीकों की आपूर्ति की जानी है। पश्चिम बंगाल को 1,09,83,340 टीके दिए गए हैं और उसके पास अब 2,92,808 टीके हैं तथा 4,00,000 टीके दिए जाने हैं। दिल्ली को अभी तक 36,90,710 टीके मिले हैंउसके पास अब भी 4,47,410 टीके उपलब्ध हैं और 1,50,000 टीके दिए जाएंगे।छत्तीसगढ़ को 59,16,550 टीके दिए गए हैं। राज्य के पास 3,38,963 टीके उपलब्ध हैं और 2,00,000 टीकों की आपूर्ति की जाएगी।

Health Ministry Start Mission 2023 - स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुरू किया 'मिशन  2023', मिशन को जन आंदोलन का रूप देने की तैयारी | Patrika News

1 मई से टीकाकरण का तीसरा चरण

1मई से कोविड-19 टीकाकरण का तीसरा चरण  से शुरू होगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि 18 साल से अधिक आयु के सभी नागरिक कोविड-19 रोधी टीका लगवाने के लिए बुधवार को शाम चार बजे से कोविन पोर्टल या आरोग्य सेतु ऐप के जरिए पंजीकरण भी शुरू हो गया है। देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में टीकाकरण अभियान का पहला चरण 16 जनवरी को शुरू हुआ था और अभी तक 14 करोड़ से ज्यादा लोगों का टीकाकरण भी हो चुका है जो आपने आप में एक रिकार्ड है। लेकिन अब जब टीकाकरण का सबसे बड़ा फेस शुरू होने जा रहा है तो कुछ राज्य इसपर सियासत करके कही न कही लोगों के जीवन के साथ खेलने में लगे है जो पूरी तरह से गलत है।

वैसे आज से नहीं जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है जब से ही उनके विरोधी पहले आप ऐसा क्यो नही कर रहे है बोल कर देश की जनता के बीच सरकार को बदनाम करते है लेकिन जब सरकार उसी काम को ययोजना के साथ लाती है तो फिर उनका साथ देने से कतराते है जिससे उनका असल चेहरा सामने आता है।