पीएम मोदी ने किया आवाहन, चर्चा करे, हिंसक विरोध नहीं

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Pm_Modi_Tweet

नागरिकता संशोधन बिल को लेकर देश में सियासी उबाल खूब देखा जा रहा है। सभी इस कानून को लेकर अपनी अपनी रोटिया सेकने में लगे हुए है। हालाकि उन्हे इससे कोई फर्क नही पड़ता कि इससे देश में किस तरह के हालात पैदा हो रहे है। इस ओछी सियासत के बीच पीएम मोदी जी ने लोगों से शांति की अपील की है। पीएम ने सिलिसिलेवार ट्वीट कर कहा कि नागरिकता कानून पर हिंसात्मक विरोध प्रदर्शन दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद है। पीएम ने बांटने वालों से सावधान रहने की अपील करते हुए कहा कि यह कानून हमारे भाईचारे को दर्शाने वाला है।

पीएम मोदी का लोगों को ट्वीट- पीएम ने अपने ट्वीट में लोगों से कहा है कि लोकतंत्र में बहस, चर्चा और असहमति का अहम हिस्सा हैं। लेकिन सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना और सामान्य जनजीवन को नुकसान पहुंचाना हमारा स्वभाव नहीं है। हमे अपनी बात शांतिपूर्ण तरीके से रखना चाहिये।

पीएम ने कहा कि नागरिकता संशोधन ऐक्ट 2019 को संसद के दोनों सदनों ने बड़ी बहुमत से पास किया है। बड़ी संख्या में राजनीतिक दल और सांसदों ने इसका समर्थन किया है। यह कानून हमारे सदियों पुरानी शांति, भाईचारा और करुणा को दर्शाने वाला है।

‘हम सभी देशवासियों को यह कहना चाहते हैं कि नागरिकता कानून से किसी भारतीय नागरिक को कोई नुकसान नहीं होगा। किसी भारतीय को इस ऐक्ट से घबराने की जरूरत नहीं है। यह ऐक्ट उन लोगों के लिए जो बाहर दूसरी जगह प्रताड़ना झेल रहे थे और उनके पास भारत आने के अलावा कोई रास्ता नहीं था।’

सच में जो लोग आज सड़कों पर इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे है वो पहले इस बिल के बारे में जाने खासकर उन लोगों से सावधान रहे जो इस नागरिक संशोधन कानून को लेकर अफवाहे फैला रहे है जिसके चलते देश का माहौल ही नही बल्कि दहशत भी फैल रही है। चलिये हम आपको सरल शब्दों में बताते है कि आखिर इस कानून में है क्या:

नागरिक संशोधन कानून – संसद का लोकसभा हो या राज्य सभा दोनो ही सदन में ये कानून पूरे बहुमत के साथ पास हुआ है। खुद गृहमंत्री अमित शाह ने बिल पेश करते हुए कहा था कि इस बिल का जो मसौदा है उसका देश में रहने वाले मुसलमानों से कोई वासता नही है। इसके साथ साथ इस कानून में साफ साफ कहा गया है कि जो लोग पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बंग्लादेश में अल्पसंख्यक है खासकर हिंदू, फारसी, और ईसाई, जिनके साथ इन देशों में गलत बरताव हो रहा था जिसके चलते इन लोगों ने देश छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। और वो भारत में आकर बस गये है ऐसे हजारों परिवारों के लिये ये कानून बनाया गया है। ऐसे में उन्हे भारत में नागरिकता दी जायेगी। जब इतना साफ इस बिल में लिखा हुआ है तो आखिर क्यो देश के मुस्लिम इस बिल को लेकर तनाव में है। इसके पीछे की वजह पर जाये तो साफ लगता है कि मुस्लिम इस कानून को लेकर परेशान नही है जितना कुछ सियासी लोग उन्हे कानून के नाम पर डर या भय पैदा कर रहे है। ऐसे में हम तो यही बात बोलेगे कि ऐसे लोगो को हमारे मुस्लिम भाई बिलकुल सफल मत होने दे और ये समझ भी ले। कि वो इस मुल्क में पूरी तरह से महफूज है।

खुद पीएम भी ये बात बोल चुके है कि उनका विश्वास देश को चमकाने में है और इसके लिये उन्हे सबका साथ सबका विश्वास चाहिये। तो अफवाहों को दर किनार करके देश के पीएम मोदी जी के साथ भारत को एक नया भारत बनाने के लिये जुट जाते है वो भी अफवाहों को फैलाने वालों को दर किनार करके….

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •