पीएम की आव भगत से गदगद देवेगौड़ा बोले ‘’जिसका मैंने शुरू से इतना विरोध किया उसका व्यवहार मेरे लिये इतना विनम्र’’

अपने भाषणों के जरिये विपक्ष पर पीएम मोदी कितने भी हमले बोलते हो लेकिन विपक्ष के नेताओं के प्रति उनका दिल कमल के फूल की तरह कोमल है और इस बात को खुद पूर्व पीएम देवेगौड़ा ने बयां किया है। पूर्व पीएम देवेगौड़ा ने पीएम से मुलाकात के बाद एक बयान में कहा: “जिसका मैने हमेशा विरोध किया उसका व्यवहार मेरे लिए इतना विनम्र था जो ज्यादातर लोगों में देखने को नही मिलता है।“

पूर्व पीएम देवेगौड़ा ने पीएम मोदी की जमकर की तारीफ

देश की जनता ये अच्छी तरह से जानती है कि पीएम मोदी अभी कुछ दिन पहले ही पूर्व पीएम देवेगौड़ा से मुलाकात हुई थी जिसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवेगौड़ा ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए उनका सम्मान तब कई गुना बढ़ गया, जब उन्होंने लोकसभा से इस्तीफा देने की उनकी इच्छा ठुकरा दी। देवेगौड़ा ने उक्त घटना को याद करते हुए कहा कि उन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी को चुनौती दी थी कि अगर भाजपा 276 सीटें जीतकर अपने दम पर सत्ता में आई तो वह लोकसभा से इस्तीफा दे देंगे। देवेगौड़ा ने कहा, ‘‘मैंने उनसे कहा था कि अगर आप 276 सीटें जीतते हैं तो मैं इस्तीफा दे दूंगा। आप दूसरों के साथ गठबंधन करके शासन कर सकते हैं, लेकिन आप अपने दम पर 276 सीटें जीतते हैं, तो मैं लोकसभा से इस्तीफा दे दूंगा।’’ उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा अपने दम पर सत्ता में आई, जिसके बाद उन्हें अपने किए वादे को पूरा करने की इच्छा हुई। देवेगौड़ा  ने याद करते हुए कहा कि जीत के बाद मोदी ने उन्हें व्यक्तिगत रूप से शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया था। देवेगौड़ा ने कहा कि समारोह समाप्त होने के बाद उन्होंने मोदी से मिलने का समय मांगा, जिसके लिए वह सहमत हो गए। मैने पीएम मोदी के सामने अपने इस्तीफे की बात जब रखी तो उन्होने साफ बोला कि चुनाव की बातो को वो याद नहीं रखते है। ऐसे में जो हुआ उसे भूल जाना चाहिये।

लोकसभा में कुछ दिन पहले भी हुई थी मुलाकात

पूर्व पीएम देवगौड़ा ने अभी कुछ वक्त पहले भी संसद सत्र के दौरान पीएम मोदी से मुलाकात की थी। इस दौरान पीएम मोदी उन्हे हाथ पकड़कर कुर्सी पर बिठाते हुए दिखाई दे रहे थे। वैसे ये पहला मौका नही है जब पीएम मोदी अपने अतिथि का इस तरह से स्वागत करते हुए दिखाई दे रहे हो। इससे पहले कई बार ऐसे मौके आये जब वो इस तरह से मिले हो। फिर वो विपक्ष का नेता हो या फिर आम आदमी, सबसे देश के प्रधान ऐसे ही मिलते दिखाई देते है।

पीएम मोदी की यही सादगी उन्हे दूसरे नेताओं से अलग करती है क्योंकि ऊपर से सख्त दिखने वाले हमारे प्रधान का दिल कितना उदार भाव से भरा है इसका पता इन सभी बातों से चलता है।