“पीएम नरेन्द्र मोदी” फिल्म पर नहीं लगेगी रोक

विरोधी पार्टियां लगातार फिल्म पर आम चुनावों तक रोक लगाने की मांग कर रहे हैं। जिसके बाद 28 मार्च को फिल्म में मुख्य किरदार निभा रहे अभिनेता विवेक ओबरॉय और निर्माता संदीप सिंह चुनाव आयोग के दफ्तर पहुंचे थे। फिल्म को लेकर चुनाव आयोग ने फिल्म निर्माताओं को पहले से ही नोटिस जारी किया हुआ है। जिसपर जवाब देने के लिए 30 मार्च तक का समय दिया गया था। विपक्ष का आरोप है कि इस लोकसभा चुनाव के चलते भाजपा फिल्म के माध्यम से राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है।

पीएम_नरेन्द्र_मोदी__फ़िल्म
पीएम नरेंद्र मोदी बायोपिक फिल्म

दिल्ली हाई कोर्ट ने लोकसभा चुनाव से पहले आदर्श आचार संहिता की अवधि के दौरान फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ की रिलीज पर रोक लगाने की जनहित याचिका खारिज कर दी। इस याचिका में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी फिल्म पीएम नरेंद्र मोदी पर लोकसभा चुनाव के मद्देनजर लागू हुई आचार संहिता को देखते हुए रोक लगाने की मांग की गई थी। दरअसल विपक्ष इस फिल्म के रिलीज को लेकर आपत्ति जता रहा है। विपक्ष का आरोप है कि इस लोकसभा चुनाव के चलते भाजपा फिल्म के माध्यम से राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ को लेकर विपक्षी पार्टियों की मांग है कि फिल्म रिलीज को चुनाव तक टाल दिया जाए। विपक्षी पार्टियों ने चुनाव आयोग में शिकायत की है कि लोकसभा चुनाव 2019 से ठीक पहले 5 अप्रैल को पीएम नरेंद्र मोदी की रिलीज से आर्दश आचार संहिता का उल्लंघन होगा। पिछले दिनों कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने आयोग में जाकर लिखित शिकायत की थी और फिल्म की रिलीज पर चुनाव तक बैन लगाने की मांग की थी। बता दें कि फिल्म रिलीज़ होने की तारीख 5 अप्रैल है और पहले चरण के लिए 11 अप्रैल को मतदान होना है।

यहाँ तक की डीएमके-मनसे ने भी की आपत्ति जताई थी| इस मूवी में पीएम नरेंद्र मोदी में एक साधारण परिवार से प्रधानमंत्री बनने तक मोदी के जीवन के अहम राजनीतिक पड़ाव को दिखाया गया है। पिछले दिनों फिल्म का ट्रेलर रिलीज किया गया था। ट्रेलर आने के बाद तमाम विपक्षी दलों, जिसमें कांग्रेस, डीएमके और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने चुनाव से पहले फिल्म के रिलीज होने पर तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए बैन लगाने की मांग की है।

इससे पहले कांग्रेस के तीन सदस्यीय दल ने सोमवार को चुनाव आयोग से मुलाकात की है। इस तीन सदस्यीय दल में कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला, कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी शामिल हैं। इससे पहले महाराष्ट्र में राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने भी इस फिल्म के प्रदर्शन को आचार संहिता का उल्लंघन बताते हुए इसे राज्य में रिलीज ना होने देने की बात कही थी।