Defence Expo: जब हाथों में राइफल थामे PM मोदी निशाना लगाने लगे…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बुधवार को यूपी की राजधानी लखनऊ में एशिया की सबसे बड़ी हथियार मंडी ‘डिफेंस एक्सपो 2020’ का शुभारंभ किया। पांच दिनों तक चलने वाली रक्षा प्रदर्शनी डिफेंस एक्सपो 2020 का पीएम मोदी ने दोपहर करीब 1.30 बजे वृंदावन गार्डन में उद्घाटन किया।

डिफेंस एक्सपो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आधुनिकतम हथियारों का जायजा लिया। पीएम मोदी ने यहां हथियारों को देखा और वर्चुअल शूटिंग रेंज में निशाना भी लगाया। एक्सपो में मौजूद एक्सपर्ट्स ने पीएम मोदी को हथियारों के बारे में जानकारी दी, उसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल शूटिंग रेंज में खुद गोलियां भी चलाई।

दरअसल वर्चुअल शूटिंग रेंज विज्ञान की वो करामात है जहां आप बिना गोलियां बर्बाद किए निशाना लगा सकते हैं और अपनी क्षमता भी जांच सकते हैं। आज के दौर में सैनिकों के लिए ये ट्रेनिंग बेहद जरूरी है।

पीएम ने उठाया राइफल

विशेषज्ञों की मौजूदगी में पीएम मोदी ने अपने हाथ में खुद रायफल उठाया और वर्चुअल शूटिंग रेंज में खुद निशाना साधा। दरअसल पीएम मोदी जहां मौजूद थे वो वर्चुअल शूटिंग रेंज था। वर्चुअल शूटिंग रेंज में निशानेबाज या सैनिक बिना युद्ध में गए युद्ध जैसा रोमांच महसूस कर सकते हैं और अपने युद्ध कौशल का आकलन कर सकते हैं। एक रोमांचक अनुभव में पीएम मोदी ने यहां पर अपने हाथ में राइफल थामी और खुद निशाना लगाया।

कार्यक्रम में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद येस्सो नाईक, प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल मौजदू हैं। इस दौरान रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हम भारत को डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब बनाना चाहते हैं। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य तो है ही, आने वाले समय में ये देश में डिफेंस मैन्युफेक्चरिंग के भी सबसे बड़े हब में से भी एक होने वाला है।

पीएम ने कहा, ‘इस बार एक हज़ार से ज्यादा डिफेंस मैन्यूफैक्चरर और दुनियाभर की डेढ़ सौ कंपनियां इस एक्स्पो का हिस्सा हैं। इसके अलावा 30 से ज्यादा देशों के डिफेंस मिनिस्टर्स और सैकड़ों बिजनेस लीडर्स भी यहां उपस्थित हैं।’

डिफेंस एक्सपो को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें गर्व है कि रक्षा क्षेत्र में भारत ने स्वदेशी तकनीक का विकास कर रहा है। पीएम ने कहा कि आज ISRO भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया के लिए Outer Space के रहस्यों को ढूंढ़ रहा है।

नई टेक्नॉलॉजी से भारत अछूता नहीं – पीएम

भारत की रक्षा जरूरतों और चुनौतियों की चर्चा करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि टेक्नॉलॉजी का गलत इस्तेमाल साइबर खतरा या फिर टेररिज्म के लिए होना, पूरे विश्व के लिए एक बड़ी चुनौती हैं। उन्होंने कहा कि नई सुरक्षा चुनौतियों को देखते हुए दुनिया की तमाम डिफेंस फोर्सेस, नई टेक्नॉलॉजी को इवॉल्व कर रही हैं। भारत भी इससे अछूता नहीं है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आधुनिक शस्त्रों के विकास के लिए दो प्रमुख आवश्यकताएं हैं- रक्षा और अनुसंधान की उच्च क्षमता और उन शस्त्रों का उत्पादन। बीते 5-6 वर्षों में हमारी सरकार ने इसे अपनी राष्ट्रनीति का प्रमुख अंग बनाया है।

एक्सपो का विषय

इस बार एक्सपो का विषय ‘भारत: उभरता हुआ रक्षा निर्माण केन्द्र’ है। इस प्रदर्शनी का उद्देश्य रक्षा क्षेत्र की महत्व‍पूर्ण प्रौद्योगिकियों को एक स्थान पर लाना और सरकार, निजी निर्माताओं तथा स्टार्टअप को अनगिनत अवसर प्रदान करना है। डिफेंस एक्सपो की प्रदर्शनी में देश के एरोस्पेस, रक्षा और सुरक्षा हितों के समूची रेंज को शामिल किया गया है।