GSP मुद्दे पर बुरे फंसे ट्रम्प, अमेरिकी सीनेटर ने की आलोचना

the American Senator on the GSP issue

GSP का मुद्दा अमेरिका में गर्माता जा रहा है| भारत को GSP लिस्ट से बाहर करने की ट्रम्प प्रशासन के फैसले के जवाब में भारत ने भी अमेरिका से आने वली कई वस्तुओं पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढाकर करीब करीब दुगुनी कर दी थी| जिसका असर अमेरिका में होता दिख रहा है|

भारत ने जिन वस्तुओं पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढाई थी उनमें बादाम और अखरोट भी शामिल थे| उल्लेखनीय है की भारत अमेरिकी बादाम का एक बड़ा निर्यातक देश है| अकेले कैलिफ़ोर्निया से भारत को हर साल करीब-करीब 65 करोड़ डॉलर के बराबर मूल्य का बादाम का निर्यात होता था| ऐसे में जब बादाम और अखरोट पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ाकर 30 प्रतिशत के बजाय 75 प्रतिशत कर दिया गया तो कैलिफ़ोर्निया के बादाम उत्पादकों को नुकसान होता तय है|

GSP issue

इस मुद्दे पर कैलिफोर्निया की शीर्ष सीनेटर डियेन फीनस्टीन ने ट्रम्प की कठोर आलोचना की है| उन्होंने कैलिफ़ोर्निया के बादाम उत्पादकों का पक्ष लेते हुए कहा है कि, “भारत अमेरिका के बीच व्यापर युद्ध के चलते अमेरिका के बादाम उत्पादकों के फायदे पर प्रतिकूल असर पड़ेगा| ट्रम्प को अपने ही देश की अर्थव्यवस्था और हमारे व्यापर सहयोगी देशों के साथ रिश्तों को नुकसान पहुँचाना बंद कर देना चाहिए|”

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की इस साल कैलिफ़ोर्निया में बादाम की रिकॉर्ड फसल होने की उम्मीद है| लेकिन अतिरिक्त निर्यात शुल्क के चलते बादाम उत्पादक परेशान हैं| चीन और भारत दोनों अमेरिकी बादाम के शीर्ष आयातक देश हैं और दोनों देशों ने बादाम पर शुल्क बढ़ा दिया है| ऐसे में उत्पादकों का चिंतित होना लाजिमी है|

अमेरिका और भारत के बीच व्यापारिक रिश्तों में भारत ज्यादा संतुलित स्थिति में है| आंकड़ों के अनुसार भारत का अमेरिका को निर्यात 2017-19 में 47.9 अरब डॉलर था, जबकि अमेरिका से आयात 26.7 अरब डॉलर था।