भारतीय वैक्सीन से अच्छा हो सका : बोरिस जॉनसन

वैसे तो भारत में तैयार हुई कोरोना वैक्सीन की तारीफ दुनिया के ज्यादतर देशों ने की और उसके गुणगान भी गाते हुए कई दिग्गज लोग दिखे लेकिन आज इस बात का एक सबूत और मिला कि भारतीय वैक्सीन ने दुनिया में करोड़ो लोगों की जान कोरोना से बचाई है। क्योकि ब्रिटिश पीएम बोरिश जॉनसन ने सब के सामने बोला कि उनके हाथ में भी भारतीय कोविड वैक्सीन लगी है जिसके लिए वो भारत के अभारी रहेगे।

भारतीय वैक्सीन से ठीक हुए ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन

कोरोना काल में जिस तरह से भारत ने दुनिया को सहारा दिया आज इस बात का आभार समूची दुनिया देती है। फिर वो संकट के वक्त दवा देना हो या फिर वैक्सीन, भारत ने दुनिया की मदद दोनो हाथों से दिल खोलकर करी थी। खुद ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन इसके एक सबसे बड़े सबूत है उन्होने भारत दौरे के दौरान बताया कि उनके हाथों में भी भारतीय कोविड वैक्सीन लगी हुई है जिससे मैं बहुत जल्द अच्छा हुआ हूँ। इसके लिये भारत को धन्यवाद देता हूँ। शायद ब्रिटिश पीएम का ये बयान देश में उन लोगों को ज्ञान दें जो लगातार भारतीय वैक्सीन का मजाक उड़ाते थे और बोलते थे कि वो भारतीय वैक्सीन कभी भी नहीं लगवायेंगे। यहां तक इन लोगों ने मेक इन इंडिया वैक्सीन को बीजेपी की वैक्सीन बताकर भी हमला किया था। लेकिन आज देश खुद सुन सकता है कि दुनिया कैसे भारतीय वैक्सीन की तारीफ में कसीदे पढ़ रही है।

यूक्रेन संकट बातचीत से हो हल- पीएम मोदी

इस मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिटिश पीएम बोरिस जानसन के साथ साझा बयान में कहा कि, यूक्रेन संकट में हमने तुरंत युद्धविराम और समस्या के समाधान के लिए डायलॉग और डिप्लोमेसी पर बल दिया है। इसके साथ ही हमने सभी देशों की क्षेत्री अखंडता और संप्रभुता के सम्मान के महत्व को भी दोहराया है। इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि, भारत और ब्रिटेन के बीच जलवायु और उर्जा पार्टनरशिप को और अधिक गहन करने का निर्णय लिया गया है। हम ब्रिटेन को भारत के राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन में शामिल होने के लिए आमंत्रित करते हैं।

पीएम मोदी और ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन की इस मुलाकात के बाद भारत और ब्रिटेन और करीब आये है। इस बात को दोनो देशों ने भी माना है और इसका एक सबूत दोनो देशों के बीच हुए समझौते है जो दोस्ती की एक नई मिसाल पेश करेंगे।