कोरोना संकट के बीच अपनो से मिलेंगे अपने

पिछले 1 महीने से समूचे विश्व में कोरोना के चलते ब्रेक लगा हुआ है। जो जहां पर है, वो वहीं रुका है। लेकिन इस बीच मोदी सरकार उन लोगों के लिये एक बड़ी खुशखबरी लेकर आई है। जो अपने घर परिवार से दूर बने हुए हैं, सरकार ने फैसला किया है कि कुछ शर्तों के साथ इन लोगों को इनके घर भेजा जायेगा।

कामगारों और छात्रों की होगी घर वापसी

कोरोना संकट के बीच आये दिन एक खबर यही आती हुई दिखाई देती थी कि कुछ प्रवासी लोगों ने लॉकडाउन नियम तोड़ कर घर जाने लगे हैं। लेकिन अब ऐसा करने वालों के लिये राहत की खबर है, क्योंकि सरकार खुद उन लोगों को घर पहुंचायेगी, जो लोग अपने घर जाना चाहते हैं। इतना ही नही जो पर्यटक या छात्र दूसरे राज्यों में है उन्हें भी भेजा जायेगा। बकायदा सरकार ने इसके लिये राज्यों से एक गाइडलाइन तैयार करने को बोला है। वैसे इस कदम से उन लोगों को ज्यादा लाभ हुआ है जो घर न पहुंच पाने के चलते अपनी फसल नही काट पा रहे थे और खेत में उनका नुकसान हो रहा था।

रखना होगा विशेष ध्यान

वैसे ये फैसला तो एक सही कदम है लेकिन इसके साथ-साथ राज्यों और देशवासियों को भी विशेष ध्यान रखना होगा कि जो लोग एक राज्य से दूसरे राज्य जा रहे हैं उनकी जांच ठीक तरह से हो रही है और यह भी कि वे क्वारंटाइन अवधि का पालन सही तरह से करें। इसमें थोड़ी सी भी असावधानी ग्रामीण इलाकों में कोरोना संक्रमण के प्रसार का कारण बन सकती है। ध्यान रहे कि अभी तक ग्रामीण इलाके संक्रमण से बचे हुए हैं। हालांकि अपने घर-गांव लौटे लोगों की निगरानी आरोग्य सेतु एप के जरिये आसानी से हो सकती है, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हो सकते हैं जो इस एप से लैस न हों। उन्हे एप डॉउनलोड करवाना चाहिये। जिससे कोरोना के मामले कम हो सके। इसके लिये हर राज्य के निचले स्तर के कर्मचारियों को बेहद महात्वपूर्ण तरीके से काम करना होगा।

रोजगार की व्यवस्था

इसके साथ साथ अगर प्रवासी कामगारों को राज्य की सरकार वहीं रोजगार देने की व्यवस्था कर सके तो और बेहतर होगा। कुछ राज्य की सरकार इसके लिए रोडमैप बना भी रही है। खासकर यूपी की सरकार ने अभी से कई कदम उठाने भी शुरू कर दिये हैं। सरकार ने मनरेगा के तहत आये प्रवासी कामगारों को रोजगार देना बी शुरू कर दिया है। तो रोजगार के नये रास्ते तलाशने का काम भी शुरू किया है। लेकिन अभी भी बहुत लंबा रास्ता तय करना है। खासकर रोजगार को लेकर इसलिये अभी ये बोलना की मुश्किल कम हुई है ठीक नही होगा।

बहरहाल सरकार के इस फैसले से उन लोगों को जरूर राहत मिली होगी जो दूर देश बैठे अपने लोगों को लेकर परेशान थे लेकिन अब हमें भी इसबात का ध्यान रखना होगा कि हम जिस गांव या जिस शहर जाएं वहां बीमारी लेकर नही पहुंचे। जिससे कोरोना संकट जल्द देश से खत्म हो सके।