श्रीराम जन्मभूमि मामले में फैसला आने से पहले CJI रंजन गोगोई ने यूपी के शीर्ष अधिकारियों को मुलाकात के लिए बुलाया

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Chief Justice of India (CJI) Ranjan Gogoi | PC - https://www.republicworld.com

श्रीराम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले देश में हलचल बढ़ी हुई है। देश की शीर्ष अदालत भी उत्तर प्रदेश में सरकार की तैयारियों को जांचना-परखना चाह रही है। इसी क्रम में भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने उत्तर प्रदेश के शीर्ष अधिकारियों को मुलाकात के लिए बुलाया है।

भारत के मुख्य न्यायाधीश, सीजेआई रंजन गोगोई ने उत्तर प्रदेश के कानून और व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडे और यूपी के डीजीपी ओम प्रकाश सिंह को राम मंदिर के मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले से पहले बुलाया है। खबरों के मुताबिक, सीजेआई गोगोई राज्य में तैयारियों की समीक्षा के लिए अयोध्या के फैसले से पहले मुख्य सचिव और यूपी डीजीपी के साथ कानून व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा कर सकते हैं। सीजेआई गोगोई फैसले के पहले यूपी में कानून और व्यवस्था बरकरार रखने के लिए यूपी के अधिकारियों से भी मुलाकात करेंगे।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी राज्य के शीर्ष नागरिक और पुलिस अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये प्रत्येक जिले में कानून और व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की और सामान्य स्थिति सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक निर्देश दिए।

अयोध्या में सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम हैं। केंद्र के साथ राज्य की पुलिस भी किसी भी तरह की घटना से निपटने के लिए खास तैयारी है। अयोध्या में पैरा मिलिट्री की कई कंपनियां तैनात की गई हैं। अयोध्या में 20 अस्थाई जेल बनाए गए हैं और 300 स्कूलों को सुरक्षा बलों के लिए रिजर्व किया गया है। इसके अलावा 30 बम निरोधक दस्ते भी तैनात किए गए हैं।

पुलिस मुख्यालय ने सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील 34 जिलों के पुलिस प्रमुखों को भी निर्देश जारी कर दिए हैं। इनमें मेरठ, आगरा, अलीगढ़, रामपुर, बरेली, फिरोजाबाद, कानपुर, लखनऊ, शाहजहांपुर, शामली, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर और आजमगढ़ है।

गृह मंत्रालय ने भी सभी राज्यों को सुरक्षा तैयारियों को सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिए हैं।

बता दे की इस से पहले 2 अगस्त को, CJI रंजन गोगोई ने घोषणा की थी कि अयोध्या मध्यस्थता पैनल एक समझौते पर आने में विफल रहा है। इसलिए उन्होंने घोषणा की कि अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि के विवाद के मामले की  सुनवाई 6 अगस्त से प्रतिदिन शुरू होगी। प्रतिदिन में होने वाली सुनवाई के खिलाफ दोनों पक्षों की बार-बार अपील के बाद भी, शीर्ष अदालत ने सुनवाई की अपनी प्रक्रिया जारी रखी।

गौरतलब है की सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि के विवाद के मामले में अपना फैसला सुरक्षित कर लिया है। इस फैसले के शीघ्र आने की संभावना के बीच में उत्तर प्रदेश सरकार अयोध्या के साथ-साथ प्रदेश के हर जिले में सुरक्षा के इंतजाम पुख्ता करने में लगी है। सुप्रीम कोर्ट के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं। इससे पहले ही अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि के विवाद के मामले में फैसला आना है।

 


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •