प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नकल कर रहा चीन – विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बनाएगा कोरोना पर रणनीति

कुछ दिनो पहले भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए सार्क तथा G-20 देशों के साथ विडियो कांफ्रेंसिंग करने का प्रस्ताव रखा था | सार्क देशों के साथ तो उन्होंने विडियो कांफ्रेंसिंग की भी थी | किलर कोरोना वायरस से निपटने के लिए चीन प्रधानमंत्री मोदी के नक्‍शे-कदम पर चलने जा रहा है | 

कोरोना वायरस का केंद्र रहे चीन ने ऐलान किया है कि वह यूरेशिया और दक्षिण एशिया के 10 से ज्‍यादा मित्र देशों के साथ विडियो कॉन्‍फ्रेंस करेगा। इस दौरान कोरोना को रोकने और बचाव की रणनीति के बारे में बताया जाएगा। भारत भी इस विडियो कॉन्फ्रेंस में शामिल होगा। 

चीन ने कहा कि वह इस चुनौतिपूर्ण समय में अपने मित्र पड़ोसी देशों की मदद करेगा। भारत में चीन के राजदूत ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी। चीन ने यह कदम ऐसे समय पर उठाया है जब पूरी दुनिया में कोरोना को ठीक ढंग से नहीं संभालने के लिए उसकी आलोचना हो रही है।

पीएम मोदी ने दिया कोविड-19 फंड बनाने का सुझाव

इस दौरान पीएम मोदी ने कोविड-19 इमर्जेंसी फंड बनाने का सुझाव दिया और भारत की तरफ से इसके लिए 1 करोड़ डॉलर देने का ऐलान किया। भारत द्वारा उठाए गए कदमों की भी जानकारी दी। सार्क नेताओं ने पीएम मोदी को इस पहल के लिए शुक्रिया कहा और साथ मिलकर इस चुनौती से निपटने पर हामी भरी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दुनिया की 20 फीसदी आबादी वाले सार्क देशों में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले कम हैं लेकिन सभी देशों को मिलकर इस चुनौती का सामना करना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें साथ मिलकर इस चुनौती से लड़ना और जीतना होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोविड-19 को हाल ही में डब्लूएचओ ने महामारी घोषित कर दिया है। उन्होंने कहा, ‘सार्क देशों में कम संक्रमण है, करीब 150 केस ही हैं। सार्क देशों में दुनिया की 1/5 आबादी है। हमारे लोगों से लोगों के बीच संपर्क काफी शानदार है और एक दूसरे से गहराई से जुड़े हुए हैं। इसलिए हमें साथ मिलकर तैयारी करनी चाहिए, साथ मिलकर काम करना चाहिए और हम सभी को साथ मिलकर सफल होना चाहिए। हम इस चुनौती का सामना करने के लिए तैयार हैं।’

चीन पर बरसे अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप

अमेरिका समेत दुनियाभर में कोरोना के बढ़ते कहर के बीच अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप चीन पर हमलावर रुख अपनाए हुए हैं। ट्रंप ने आरोप लगाया है कि चीन ने कोरोना वायरस को लेकर प्रारंभिक सूचना छ‍िपाई जिसकी सजा आज दुनिया भुगत रही है। डोनाल्‍ड ट्रंप का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब इटली में कोरोना से मरने वालों की संख्‍या चीन से भी ज्‍यादा हो गई है। यही नहीं अमेरिका में भी मरने वालों का आंकड़ा 200 को पार गया है।